Top
Begin typing your search...

लॉकडाउन में किसानों को हुई पैसे की जरूरत तो SBI की ये स्कीम आएगी काम!

कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए जारी देशव्यापी लॉकडाउन का असर किसानों और कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों पर पड़ा है.

लॉकडाउन में किसानों को हुई पैसे की जरूरत तो SBI की ये स्कीम आएगी काम!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) से निपटने के लिए जारी देशव्यापी लॉकडाउन का असर किसानों और कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों पर पड़ा है. ऐसे समय में अगर किसानों को पैसों की जरूरत पड़ जाए तो घबराने की जरूरत नहीं है. ऐसे स्थिति में भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की मल्टी पर्पस गोल्ड लोन (Multi Purpose Gold Loan) काफी मददगार साबित हो सकती है. इसके जरिए किसान अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा कर सकते हैं. इस स्कीम के जरिए कृषि से जुड़े लोगों को आकर्षक दरों पर लोन मिलता है.

कोई हिडेन चार्ज नहीं

एसबीआई की मल्टी पर्पस गोल्ड लोन का सबसे बड़ा फायदा है कि इस स्कीम के तहत लोन का आवेदन करने पर ग्राहक से कोई हिडेन चार्ज नहीं लिया जाता है और आसानी से लोन मिल जाता है. इस तरह के लोन पर ब्याज दर भी काफी कम है. ग्राहक अपने रीपेमेंट शिड्यूल में बदलाव भी करवा सकते हैं. ये स्कीम देश भर में समस्त ग्रामीण और अर्ध शहरी शाखाओं में उपलब्ध है.

बैंक में गिरवी रखना होगा सोना

मल्टी पर्पस गोल्ड लोन स्कीम के तहत लोन लेने के लिए ग्राहक को सोने की ज्वैलरी को गिरवी के तौर पर रखना होगा. इसके मूल्य के आधार पर ही आपको कितना तक लोन मिल सकेगा ये तय होगा. सोने की कीमत में बदलाव के साथ ही आपको कितना लोन मिलेगा ये भी निर्धारित होगा. बैंक सालाना इस लोन के लिए ली गई रकम पर 9.95% फीसदी सालाना की ब्याज दर पर ब्याज लेती है.

ये कर सकते हैं आवेदन

मल्टी पर्पस गोल्ड लोन के तहत लोन के लिए आवेदन किसान और कृषि से जुड़े लोग ही कर सकते हैं. यह लोन 12 महीने के समय के लिए दिया जाता है. वहीं ग्राहक तीन साल तक अपने सोने के बदले कैश क्रेडिट या ओवर ड्राफ्ट ले सकते हैं.

इन डॉक्यूमेंट्स की होगी जरूरत

मल्टी पर्पस गोल्ड लोन के लिए ग्राहक को एप्लीकेशन फॉर्म भर कर जमा करना होता है. फॉर्म के साथ ही दो पासपोर्ट साइज की फोटो लगानी होगी. इसके साथ पहचान पत्र के तौर पर वोटर आईडी कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड, ड्राविंग लाइसेंस जमा कर सकते हैं. इसके अलावा, एड्रेस प्रूफ के तौर पर वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस दे सकते हैं. वहीं, आपको किसान होने का प्रमाण के लिए कृषि की जमीन का प्रूफ देना होगा.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it