Top
Begin typing your search...

मोदी सरकार ने होली से पहले दी बड़ी राहत, गैस सिलेंडर के दाम में भारी गिरावट, जानें क्या है नया रेट

बगैर सब्सिडी वाला 14.2 किलोग्राम का रसोई गैस सिलेंडर 53 रुपये सस्ता हो गया है. वहीं, 19 किलोग्राम वाले कमर्शियल सिलेंडर के दाम में भी 85 रुपये की कटौती की गई है.

मोदी सरकार ने होली से पहले दी बड़ी राहत, गैस सिलेंडर के दाम में भारी गिरावट, जानें क्या है नया रेट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

होली के त्योहार से पहले जनता को बड़ी राहत मिली है. तेल कंपनियों ने बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर (Non-subsidised LPG Cylinder Price) की कीमत में बड़ी कटौती की है. आज से (1 मार्च) बगैर सब्सिडी वाला 14.2 किलोग्राम का रसोई गैस सिलेंडर 53 रुपये सस्ता हो गया है. वहीं, 19 किलोग्राम वाले कमर्शियल सिलेंडर के दाम में भी 85 रुपये की कटौती की गई है.

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के अनुसार, दिल्ली और मुंबई में बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर पर 53 रुपये की कटौती की गई है. नई कीमतें आज से लागू हो गई हैं. नई दरों के मुताबिक, 1 मार्च 2020 से दिल्ली में बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 805.50 रुपये हो गई है. वहीं, मुंबई में अब यह सिलेंडर 776.50 रुपये का मिलेगा. इससे पहले दिल्ली में इसकी कीमत 858.50 रुपये और मुंबई में 829.50 रुपये थी.

इंडियन ऑयल द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, दिल्ली में आज से कमर्शियल सिलेंडर (19 किलोग्राम) की नई कीमत 1,381.50 रुपये होगी. मुंबई में यह 1,331 रुपये का मिलेगा. पहले दिल्ली में यह सिलेंडर 1,466 रुपये और मुंबई में 1,540.50 रुपये का मिलता था.

बीती 19 फरवरी को पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मार्च में सिलेंडर के दामों में कमी से संकेत दिए थे. फरवरी में बढ़ाई गई सिलेंडर की कीमत पर उन्होंने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय बाजार की वजह से यह दाम बढ़ाए गए हैं. बताते चलें कि पिछले साल अगस्त के बाद से 6 बार रसोई गैस के दाम बढ़ाए जाने के बाद यह पहली बड़ी कटौती है. दरअसल अगस्त 2019 से लेकर फरवरी 2020 तक एलपीजी सिलेंडर के दामों में 6 बार बढ़ोतरी की गई. यह बढ़ोतरी करीब 50 फीसदी तक रही.

गौरतलब है कि भारत सरकार रसोई गैस के हर कनेक्शन पर एक साल में 12 सिलेंडरों पर सब्सिडी देती है. 12 सिलेंडर के बाद उपभोक्ताओं को बाजार दर से सिलेंडर (बिना सब्सिडी वाला सिलेंडर) खरीदना होता है. तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बाजार के हिसाब से गैस सिलेंडर की कीमतें तय करती हैं, लिहाजा इसके दाम में उतार-चढ़ाव होते रहता है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it