Top
Begin typing your search...

डॉलर के सामने भारतीय मुद्रा में सबसे बड़ी गिरावट

भारत अपनी खपत का 80 फीसदी से ज्यादा कच्चा तेल आयात करता है।

डॉलर के सामने भारतीय मुद्रा में सबसे बड़ी गिरावट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। भारतीय मुद्रा में सोमवार को डॉलर के मुकाबले 25 अप्रैल के बाद से सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की गई। डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सत्र की क्लोजिंग से 40 पैसे की कमजोरी के साथ 70.31 रुपये प्रति डॉलर पर बना हुआ था। इससे पहले रुपया 69.99 पर खुलने के बाद 70.32 तक फिसला। पिछले सत्र में डॉलर के मुकाबले रुपया 69.91 पर बंद हुआ था।

बाजार के जानकार और शेयर विश्लेषण करने वाले बताते हैं कि शेयर बाजार में गिरावट कच्चे तेल के भाव में तेजी और अमेरिका-चीन व्यापारिक गतिरोध कुछ प्रमुख वजहें हैं। जिससे अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी आई है। केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने कहा कि पिछले महीने 25 अप्रैल को जब रुपया डॉलर के मुकाबले कमजोर होकर 70.32 के स्तर से नीचे आ गया था उस समय अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ब्रेंचमार्क कच्चा तेल का भाव 75 डॉलर प्रति बैरल को पार कर गया था।

आपको बतादें कि भारत अपनी खपत का 80 फीसदी से ज्यादा कच्चा तेल आयात करता है। जहां इसके लिए उसे डॉलर की जरूरत होती है। इसलिए कच्चे तेल का भाव बढ़ने से रुपये पर दबाव बढ़ने लगता है। वही केडिया ने कहा कि विदेशी संस्थागत निवेशकों के पैसे निकालने के कारण डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हुआ है। अमेरिका-चीन व्यापारिक सामंजस्य सही नही होने के कारण ये दुनिया में एक अनिश्चितता का माहौल बना है जिसका असर शेयर बाजारों पर पिछले सप्ताह देखने को मिला। भारतीय शेयर बाजार में पिछले पूरे सप्ताह गिरावट का सिलसिला जारी रहा।

Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it