Top
Begin typing your search...

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी पास के गांवों को खिलाती है खाना

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी पास के गांवों को खिलाती है खाना
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरियाणा में गुरुग्राम के पास मानेसर स्थित Maruti Suzuki India (मारुति सुजुकी इंडिया) का विनिर्माण प्लांट है, जहां कंपनी के सबसे ज्यादा बिकने वाले वाहनों को बनाया जाता है। इस समय यह अत्याधुनिक प्लांट भले ही अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया हो, लेकिन यहां देश की सबसे बड़ी कार निर्माता का काम बंद नहीं हुआ है। कंपनी यहां से नजदीक रहनेवाले लोगों की देखभाल कर रही है।

मारुति सुजुकी ने हाल ही में खुलासा किया है कि मानेसर और गुरुग्राम में कई समुदायों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। इसके साथ ही कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण 14 अप्रैल तक चलनेवाले देशव्यापी लॉकडाउन में अपने कर्मचारियों के कल्याण के लिए भी कई पहल की जा रही है।

सामाजिक दूरी बनाना सबसे प्राथमिक काम है जिस पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। इसके साथ ही कंपनी ने उत्पादन स्थगित होने के बावजूद अपने प्लांट में इन-हाउस कैंटीन लगाने में कामयाबी हासिल की है। यहां तैयार भोजन अस्थायी रूप से काम करने वालों और नजदीक में रहने वाले प्रशिक्षु छात्रों को बांटा जा रहा है। इसके अलावा, गुरुग्राम और मानेसर में लंच के साथ-साथ रात के खाने के लिए 7,000 भोजन पैकेट परोसे जा रहे हैं।

मानेसर के पांच गांवों- कसान, अलीहर, धना, बास-कुसला और खो में राशन बांटा जा रहा है।

गुरुग्राम में स्थानीय प्रशासन की मदद से, मारुति सुजुकी हर दिन सूखे राशन के 500 किट की आपूर्ति भी कर रही है। इस किट में चावल, गेहूं, खाना पकाने का तेल, चीनी, साबुन और अन्य आवश्यक चीजें शामिल हैं।

मास्क और क्लीनिकल थर्मामीटर जैसे आवश्यक चिकित्सा उपकरण भी वितरित किए जा रहे हैं।

इन सभी कदमों को उठाने पर, मारुति सुजुकी ने कहा कि यह अपने कर्मचारियों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। इसने एक ऑनलाइन फैमिली कनेक्ट प्रोग्राम शुरू किया है, जो कर्मचारियों के परिवारों तक उन मनोरंजक गतिविधियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पहुंचता है, जो लॉकडाउन के दौरान उन्हें प्रेरित करने के उद्देश्य से तैयार किए गए हैं।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it