Top
Begin typing your search...

जीडीपी से हम पर क्या असर?

अगर जीडीपी बढ़ोतरी होने पर सरकार के साथ-साथ आम आदमी की आमदनी भी बढ़ जाती है और उसकी किचन से लेकर सारे कारोबार ढंग से चलना शुरू हो जाते हैं.

जीडीपी से हम पर क्या असर?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इस वक्त जीडीपी की चर्चा हर तरफ है. क्योंकि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट नजर आई है. इस मुद्दे पर छिड़ी देशभर में बहस के बीच यह जानना भी जरूरी है कि आखिर जीडीपी क्या होती है और यह हमारी जिंदगी को कैसे कैसे प्रभावित करती है.

इकोनॉमिस्ट डॉ सारथी आचार्य का कहना है कि जीडीपी के आंकड़ों को देश की इकोनॉमी के साथ आम लोगों की जीवन चर्या पर काफी असर पड़ता है. जीडीपी में गिरावट का मतलब है कि देश में उत्पादन कम हो रहा है यानी डिमांड और खरीदारी में बहुत ज्यादा कमी आ रही है. जब डिमांड और खरीदारी में कमी होगी तो इससे सरकार की आमदनी कम होगी फिर सरकार अपने खर्चे में कटौती करेगी डिमांड नहीं होने से कंपनियों का कारोबार कम होगा कंपनियां अपना विस्तार नहीं कर पाएंगे मार्केट में नए रोजगार और नौकरियां नहीं आएगी. साथ ही जो नौकरियां हैं उन पर भी खतरा मंडराता नजर आएगा. क्योंकि जब उत्पादन कम होगा तो कंपनियों को मैन पावर कम करना होगा वरना उनकी कंपनी आर्थिक बोझ से डूब जाएगी.

एसके म्यूचल फंड के सीएमडी नरेंद्र भादवा के अनुसार मान लीजिए प्रति व्यक्ति औसत आय ₹30000 महीने हैं और उस दरमियान जीडीपी में 24 फ़ीसदी की गिरावट आ जाती है. यानी लोगों की औसत आई मेसी 7250 की सीधी सीधी गिरावट आ गई है और यह अब घटकर करीब 22800 रह गई है आई में कटौती आम आदमी के किचन तक के बजट को प्रभावित करता है वही इसका सकारात्मक पक्ष यह है कि अगर जीडीपी बढ़ोतरी होने पर सरकार के साथ-साथ आम आदमी की आमदनी भी बढ़ जाती है और उसकी किचन से लेकर सारे कारोबार ढंग से चलना शुरू हो जाते हैं.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it