Top
Begin typing your search...

दिल्ली में एक फैक्ट्री में लगी आग, 43 लोंगों की मौत , 100 के फंसे होने की आशंका, मरने वालों में बिहार यूपी के लोग

दिल्ली में एक फैक्ट्री में लगी आग, 43 लोंगों की मौत , 100 के फंसे होने की आशंका, मरने वालों में बिहार यूपी के लोग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: रात को सोये लोंगों ने यह कभी नहीं सोचा था कि कल सूरज उनको नसीब नहीं होगा. देर रात तक हंसी ठिठोली करके सोये लोग सुबह अपनी जिंदगी गंवा बैठे. झाँसी रोड अनाज मंडी स्थित एक फैक्ट्री में लगी आग में अब तक 43 लोंगों की मौत हो चुकी है जबकि इस रेस्क्यू में पचास लोंगों को बचाया जा सका है अभी भी कई लोंगों के फंसे होने की आशंका.

उपहार सिनेमा के बाद दिल्ली को दूसरा सबसे बड़ा लोमहर्षक काण्ड होगा जिसमें अब तक और लोंगों के मरने की आशंका जताई जा रही है. राहत और बचाब कार्य जारी है. मरने वाले ज्यादातर मजदुर है जो उत्तर प्रदेश और बिहार के निवासी है. फैक्ट्री में काम करने वाले लोंगों के परिजनो में बताया कि मेरे तीन भतीजे यहीं अपनी फैक्ट्री चलाते थे. जिसमें एक दर्जन से ज्यादा मजदूर काम करते थे. इस बिल्डिंग में तीन फैक्ट्री चलती थी. जिसमें कई लोग काम करते थे.

फैक्ट्री के बाहर काम करने वालों के परिजनों की अब भीड़ बढती नजर आ रही है. जबकि राहत और बचाव कार्य जारी है चूँकि फैक्ट्री इलाके में काफी घनी आबादी के चलते फायर सर्विस कर्मियों को बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है.

Delhi's Anaj Mandi on Rani Jhansi Road


इस घटना पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शोक व्यक्त करते हुये फायर कर्मियों को राहत और बचाव कार्य के लिए धन्यवाद दिया है.

मिल रही जानकारी के मुताबिक मिल रही जानकारी के मुताबिक रानी झांसी रोड पर अनाज मंडी के पास एक कारखाने में आज सुबह आग लग गई. कारखाने के अंदर मजदूर सो रहे थे. एलएएनजीपी अस्पतार के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉक्टर किशोर सिंह ने बताया है कि अब तक 34 शव अस्पताल आ चुके हैं और 14-15 लोग घायल बताए जा रहे हैं. इनमें से 9 लोगों को बर्न डिपार्टमेंट में भर्ती किया गया है. उन्होंने कहा ज्यादातर लोगों की मौत दम घुटने से हुई है और ज्यादातर की हालत अभी स्थिर बताई जा रही है. उन्होंने कहा कि जो लोग भर्ती हैं उनके फेफड़े में धुआं गया होगा तो अभी उनकी हालत भी खराब हो सकती है.

जिस समय यह घटना हुई है उस समय एक कमरे में 20-20 लोग सो रहे थे. हालांकि दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंच गई थीं लेकिन जिन 56 लोगों को बाहर निकाला गया है उनमें से अब तक 35 लोगों की मौत हुई जिसमें ज्यादातर की मौत दम घुटने से हुई. हालांकि कई अन्य अस्पतालों में लोगों को भर्ती किया गया है वहां से पूरी जानकारी नहीं मिल पाई है.

मौके पर पहुंची एनटीवी की टीम को जानकारी मिली है कि दमकल विभाग की टीम फैक्टरी के अंदर पहुंचकर लोगों को निकाला. अंधेरा होने के कारण उस वहां इस राहत और बचाव में थोड़ा अड़चन भी आई. चीफ फायर ऑफिसर अतुल गर्ग ने एनडीटीवी ने फोन पर बताया है कि सर्च ऑपरेशन खत्म हो चुका है. आग के कारणों का पता नहीं लग पाया है और उन्होंने बताया कि कुल 56 लोगों को निकाला गया है.

Special Coverage News
Next Story
Share it