Top
Begin typing your search...

मोदी विरोधी खेमा बनाने में जुटे आचार्य प्रमोद कृष्णम, दिल्ली में शिवपाल से गहन मंत्रणा

मोदी विरोधी खेमा बनाने में जुटे आचार्य प्रमोद कृष्णम, दिल्ली में शिवपाल से गहन मंत्रणा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तैयारियों में सभी दल जुट गये है. अपने अपने पासे फिट करने के लिए राजनैतिक लोग एक दूसरे के संपर्क में है. इसी सिलसिले में आज दिल्ली में यूपी भवन में यूपी की दो बड़ी हस्तियाँ मौजूद थी . इन हस्तियों में कल्किपीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम और प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव थे.

आचार्य प्रमोद कृषणम और शिवपाल यादव की यह बातचीत आधे घंटे से ज्यादा चली. इस बातचीत में दो राजनैतिक धुरंधरों के मिलने पर यूपी की राजनीत पर चर्चा न हो यह कहना गलत होगा. चूँकि आचार्य प्रमोद कृष्णम यूपी में मोदी और योगी विरोधी खेमें को अपने पक्ष में करते नजर आ रहे है. ताकि उनके मुताबिक यूपी की ब्राह्मण दलित और पिछड़ा विरोधी सरकार का पतन किया जाय. जिस तरह से यूपी में ब्राह्मणों के साथ अत्याचार किया गया है उससे आचार्य बेहद नाराज नजर आ रहे है. जबकि सत्ता पक्ष और विपक्ष के सभी ब्राह्मण नेता खमोश नजर आ रहे है. आचार्य ने इ मुद्दे पर सबसे पहले बात करके एक नई लड़ाई ब्राह्मणों के समर्थन में तैयार की है.

अब आचार्य के यूपी के सबसे तेज तर्रार माने जाने वाले और अपनी एक ख़ास पहचान कायम करने वाले शिवपाल यादव से मुलाकात की. जिसमें सूत्रों के मुताबिक यूपी के आने वाले विधानसभा चुनाव पर लंबी गुफ्तगू हुई है. जल्द ही इसके सार्थक परिणाम नजर आयेंगे.

आचार्य प्रमोद कृषणम से जब स्पेशल कवरेज न्यूज ने बातचीत की तो उन्होंने कहा कि किसी मुलाकात को मिडिया क्या बताये ये उसका अपना मानना है. यह मुलाकात शिष्टाचार की मुलाकात है. चूँकि में भी दिल्ली में था और शिवपाल सिंह भी दिल्ली में यूपी भवन में मौजूद थे तो मेरी उनसे थोड़ी देर बातचीत हुई है. यह कोई राजनैतिक मुलाकात नहीं है.

बता दें कि यूपी राजनीत में कुछ पढ़े लिखे और सेकुलर लोग आचार्य प्रमोद कृष्णम को योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सीएम का उम्मीदवार बनाने में जुटे हुए है चूँकि आचार्य प्रमोद भी साधू है एक बाबा दुसरे बाबा को टक्कर देने में आसान रहेगा और राजनैतिक विश्लेषकों का मानना है कि उनके सामने हिंदू मुस्लिम का खेल बीजेपी नहीं खेल पाएगी. अब देखना यह होगा कि आचार्य और शिवपाल की मुलाकात क्या गुल खिलाएगी.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it