Home > राज्य > दिल्ली > शरजील इमाम को कोर्ट में पेशी के लिए दिल्ली लाया गया, सुरक्षा के कड़े इंतजाम, लगा है ये आरोप

शरजील इमाम को कोर्ट में पेशी के लिए दिल्ली लाया गया, सुरक्षा के कड़े इंतजाम, लगा है ये आरोप

 Sujeet Kumar Gupta |  29 Jan 2020 9:20 AM GMT  |  नई दिल्ली

शरजील इमाम को कोर्ट में पेशी के लिए दिल्ली लाया गया, सुरक्षा के कड़े इंतजाम, लगा है ये आरोप

नई दिल्ली। राजद्रोह के मामले में बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्र शरजील इमाम को आज बुधवार को पटना से दिल्ली लाया गया है. डीसीपी एयरपोर्ट के मुताबिक क्राइम ब्रांच की टीम शरजील को लेकर एयरपोर्ट से निकल गई है. सुरक्षा कारणों से लोग अंदर से ही किसी दूसरे गेट से निकल गए। जहां उन्हें पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा। इसके मद्देनजर पटियाला हाउस के बाहर पुख्ता सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं।

गिरफ्तारी के बाद जहानाबाद कोर्ट से मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने शरजील को ट्रांजिट रिमांड पर लिया था, लेकिन प्रक्रिया में देरी की वजह से उसे दिल्ली नहीं लाया जा सका. देर रात उसे पटना के महिला थाने में रखा गया था. शरजील को लेकर दिल्ली पुलिस बुधवार सुबह पटना एयरपोर्ट पहुंची।

अधिकारिक सूत्रों का दावा है कि पुलिस ने शरजील इमाम के छोटे भाई से पूछताछ की थी, जिसके बाद उससे मिली जानकारी के आधार पर शरजील इमाम को बिहार और दिल्ली पुलिस के संयुक्त ऑपरेशन में धर दबोचा गया. उसकी गिरफ्तारी मंगलवार दोपहर को हुई है। शरजील की गिरफ्तारी के बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया था, जिसके बाद कोर्ट ने शरजील इमाम को दिल्ली पुलिस की ट्रांजिट रिमांड में 36 घंटे के लिए भेज दिया।

यह है आरोप

क्राइम ब्रांच की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि मूलरूप से बिहार के जहानाबाद के रहने वाले और जेएनयू (जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय) के छात्र शरजील लगातार सीएए और एनआरसी के विरोध में भड़काऊ और उत्तेजक बयान दे रहा है। गत 13 दिसंबर को को भी उसने जामिया मिल्लिया इस्लामिया में इसी तरह का एक बयान दिया था। इसके बाद उसने कई बार सरकार के खिलाफ भड़काऊ भाषण दिए, जो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे हैं। ये भाषण दो धर्म-संप्रदाय के लोगों के बीच सांप्रदायिक सौहार्द के लिए चुनौती बन सकती है। इसे देखते हुए विशेष जांच दल (एसआइटी) ने केस दर्ज करने का फैसला किया। इसमें देशद्रोह के साथ भड़काऊ भाषण की धारा लगाई गई है। देशद्रोह में उम्रकैद की सजा का प्रावधान है। वहीं, जहानाबाद के पुलिस अधीक्षक मनीष ने कहा है कि इस संबंध में जांच एजेंसियों को जरूरी सहयोग किया जा रहा है।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top