Top
Home > धर्म समाचार > बाबा, संत आदि को करोड़ो का घाटा, धर्म की इंडस्ट्री खतरे में राहत पैकेज की मांग

बाबा, संत आदि को करोड़ो का घाटा, धर्म की इंडस्ट्री खतरे में राहत पैकेज की मांग

देश मे कुल कितने बाबा और तथाकथित संत है, इनकी सही संख्या बताना तो बहुत कठिन है ।

 Shiv Kumar Mishra |  26 May 2020 8:22 AM GMT  |  दिल्ली

बाबा, संत आदि को करोड़ो का घाटा, धर्म की इंडस्ट्री खतरे में राहत पैकेज की मांग

महेश झालानी

मजदूरों, दुकानदार, व्यवसायियों और फैक्ट्री मालिक आदि का सरकार पूरा ख्याल रख रही है । इनके पुनर्वास तथा कारोबार को पटरी पर लाने के लिए राहत पैकेज की भी घोषणा की जा रही है । लेकिन बेचारे संत, महात्मा तथा बाबाओं के प्रति सरकार पूरी तरह उपेक्षित है । जया किशोरी तथा मोरारी बापू जैसे लोगो को कोरोना काल मे सैकड़ो करोड़ का घाटा हो चुका है । जब सारे आयोजन ही बन्द है तो धंधा कैसे होगा ?

देश मे कुल कितने बाबा और तथाकथित संत है, इनकी सही संख्या बताना तो बहुत कठिन है । लेकिन करीब सौ ऐसे लोग है जो भजन, कथा, नानी बाई को मायरो तथा समोसा व चटनी के माध्यम से प्रति वर्ष हजारों करोड़ रुपये तक कमा रहे है । गरीबों से इनका दूर दूर तक कोई ताल्लुक नही है । अमीरों के समारोह में ये अक्सर मंडराते देखे जा सकते है ।

कई बाबाओं ने तो वर-वधु को आशीर्वाद तक की फीस तक तय कर रखी है । अम्बानी टाइप के रईस से ये 50 लाख रुपये तक आशीर्वाद देने के वसूलते है । हवाई जहाज से आना, आलीशान होटल में ठहरना और काजू-बादाम का नाश्ता करना इनका शौक है । कई महीने पहले बुकिंग तय करनी पड़ती है । वरना संत कहीं और की भी उड़ान भर सकते है ।

सबसे पहले बात कर लेते है समोसा किंग निर्मल (बाबा) की । स्वयंघोषित निर्मल को दिव्य दृष्टि से भूत, भविष्य और वर्तमान के बारे में सबकुछ पता लग जाता है । जिसकी कृपा अटकी रहती है, उसका समोसे से इलाज किया जाता है । समस्या गंभीर होने पर लाल या हरी चटनी के जरिये व्यक्ति को समस्या से मुक्ति दिलाई जाती है ।

पहले कभी कफ़न बेचने वाले निर्मल के पास 500 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है । पहले रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है । उसके बाद ही समागम स्थल में प्रवेश हो सकता है । रजिस्ट्रेशन की फीस 2 से 11 हजार रुपये है । फेक लोगो को खड़ा कर उनसे कहलवाया जाता है कि जब से बाबा के दरबार मे आने लगा है, उसके कष्टों का निवारण होने लगा है । बिना इजाजत किसी को सवाल करने की इजाजत नही होती है ।

आशाराम के कर्मकांडो से कौन व्यक्ति अनभिज्ञ होगा । दस हजार करोड़ की संपत्ति के मालिक आशाराम और उसके पुत्र का काम नई नई लड़कियों को जाल में फंसाकर उनके साथ बलात्कार तथा यौन शोषण करना रहा है । कई लड़कियों को गायब करने का भी आरोप है इस ढोंगी बाबा पर । इसकी लड़की बाप और भाई के लिए लडकिया फसाने का धंधा करती थी । नरेंद्र मोदी, लालकृष्ण आडवाणी सहित अनेक लोग आज भी इस बाबा को श्रद्धा की नजर से देखते है । फिलहाल यह जेल की हवा खा रहा है ।

मोरारी (बापू) का किस्सा मैंने हाल ही में विस्तार से लिखा था । कथा वाचन के नाम पर 500 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का मालिक बन गया है । ऐरा गेरा तो इसे बुलाने के बारे में सोच भी नही सकता है । 2 से 5 लाख रुपये प्रतिदिन के कथा बाचने का पैसा लेता बताया । वह भी दो नम्बर में । बताया जाता है कि मोरारी की अधिकांश काली कमाई मिराज जर्दे में निवेशित है जो मौत के घाट उतारने का कारोबार करता है ।

आज की सबसे तेजी से कमाई करने वाली लड़कियों में जया कुमारी का नाम सबसे ऊपर है । कथा बाचने या नानी बाई को मायरो की फीस प्रतिदिन 8 लाख रुपये है । हेल्पलाइन नम्बर 9866476462, 8875992006, 9831755506 के माध्यम से बुकिंग कराई जा सकती है । 6 महीने आगे तक बुकिंग पहले से ही रहती है ।

आवाज की धनी तथा बेहद खूबसूरत, लेकिन स्वभाव से बदमिजाज जया किशोरी को सुनने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है । नवयुवक तो इस कथावाचक के बेहद दीवाने है । जब यह डांस करती है तो लड़के, लडकिया, महिलाएँ और पुरुष झूमने के लिए बाध्य हो जाते है । शेखावाटी की रहने वाली ज्याकुमारी आजकल कोलकाता में रहती है तथा यही इसका ऑफिस भी है ।

उदयपुर के नारायण सेवा संस्थान से ज्याकुमारी का व्यापारिक रिश्ता भी बताया जाता है । चर्चा है कि अपनी काली कमाई को सफेद करने में नारायण सेवा संस्थान की मदद ली जाती है । जया कुमारी के अलावा कई राजनेता भी अपने काले-सफेद धन की अदला बदली के लिए इस संस्थान में आते रहते है । चुनाव के दौरान यह धंधा खूब होता है । आयकर विभाग जांच करता है तो स्वयंसेवियों की पोल खुलकर रह जायेगी । इसके अलावा बाबा राम रहीम, रामपाल सहित अनगिनत लोग बाबा का चोला ओढ़कर अपना उल्लू सीधा कर रहे है ।

कोरोना की वजह से प्रतिदिन इन बाबाओं तथा इन पर आश्रित कारोबारियों का सारा धंधा चौपट हो रहा है । सरकार को चाहिए कि इन संतो के लिए राहत पैकेज की घोषणा करें वरना धर्म की इंडस्ट्री पर बहुत प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा ।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it