Top
Home > राज्य > हरियाणा > किसान बिल को लेकर हरसिमरत के इस्‍तीफा देने के बाद दबाव में दुष्यंत चौटाला

किसान बिल को लेकर हरसिमरत के इस्‍तीफा देने के बाद दबाव में दुष्यंत चौटाला

मोदी के मंत्रिमंडल से अकाली दल की अकेली केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के इस्तीफे से दुष्यंत चौटाला पर दबाव आ गया है।

 Arun Mishra |  18 Sep 2020 6:59 AM GMT  |  हरियाणा

किसान बिल को लेकर हरसिमरत के इस्‍तीफा देने के बाद दबाव में दुष्यंत चौटाला
x

हरियाणा : कृषि अध्यादेशों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल से अकाली दल की अकेली केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के इस्तीफे से दुष्यंत चौटाला पर दबाव आ गया है। हरियाणा में जननायक जनता पार्टी के साथ गठबंधन की वजह से बीजेपी सत्‍ता पर काबिज हैं।

जेजेपी पर विपक्षी हमले की शुरुआत कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला के एक ट्वीट से हुई। "दुष्यंत जी, हरसिमरत कौर बादल के बाद आपको कम से कम उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए था। आप किसानों से ज्यादा अपनी कुर्सी से जुड़े हुए हैं।"

जेजेपी और अकाली का न केवल अपने-अपने राज्यों में एक मजबूत ग्रामीण आधार है, बल्कि वे करीबी पारिवारिक संबंधों को भी साझा करते हैं। अध्यादेशों का विरोध करते हुए अकाली दल के सुखबीर सिंह बादल ने पूर्व मुख्‍यमंत्री स्वर्गीय देवीलाल (जो इनेलो के संस्थापक और दुष्यंत चौटाला के परदादा थे) को सबसे बड़े किसान नेताओं में से एक कहा था। यह भी माना जाता है कि हरियाणा में भाजपा और जेजेपी के गठबंधन को कराने में बादल की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

अध्यादेश के खिलाफ किसानों के आंदोलन ने दुष्यंत चौटाला की जेजेपी पर अकालियों जैसा रुख अपनाने का दबाव बनाया है। जेजेपी कृषि अध्यादेशों का समर्थन करता रहा है और किसानों को गुमराह करने के लिए कांग्रेस को दोषी ठहराता है।

पिछले हफ्ते कुरुक्षेत्र जिले में एक विरोध रैली के दौरान किसानों पर हुए लाठीचार्ज ने राज्य में सत्ता साझा करने वाली जेजेपी के लिए भी मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। कई किसान बुरी तरह घायल हो गए और विपक्ष ने उनकी आवाज़ दबाने को लेकर सरकार पर हमला किया।

दुष्यंत चौटाला ने कहा, "निश्चित रूप से मैं एक बात कहना चाहूंगा कि पिपली में हुई घटना निंदनीय है। उन व्यक्तियों के खिलाफ जांच होनी चाहिए। लेकिन अब उनके ही विधायकों को उनके नेतृत्व पर संदेह होने लगा है।

जेजेपी विधायक देवेंद्र बबली ने पार्टी नेतृत्व में बदलाव का दावा करते हुए कहा कि पार्टी के अधिकांश 10 विधायकों में असंतोष है। दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व में असंतोष व्यक्त करने के लिए साथी विधायक राम कुमार गौतम के बाद बबली दूसरे जेजेपी विधायक हैं। पिछले हफ्ते एक वीडियो क्लिप में बबली विभाग के अधिकारियों के खिलाफ गंभीर आरोप लगाते दिख रहे हैं।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि लाठीचार्ज मामले में जांच का आदेश दिया जाएगा, हरियाणा के गृह मंत्री ने कुरुक्षेत्र में किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान किसी भी तरह के बल प्रयोग से इनकार किया। अनिल विज ने पहले कहा था, "किसानों पर पुलिस द्वारा कोई लाठीचार्ज नहीं किया गया।" राजनीतिक क्षति को भांपते हुए जेजेपी ने अब कुरुक्षेत्र में लाठीचार्ज के लिए माफी मांगी है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story
Share it