Top
Home > हेल्थ > कोरोना पर विजय के लिए सभी पक्षों को निभाना होगा ईमानदारी से अपना दायित्व

कोरोना पर विजय के लिए सभी पक्षों को निभाना होगा ईमानदारी से अपना दायित्व

विश्व में बेहद तेजी से महामारी का रूप धारण कर चुकें कोरोना वायरस की घातक मार के चलते, आज कोरोना वायरस की हर देश में हर तरफ जबरदस्त चर्चा है

 Arun Mishra |  27 March 2020 3:32 PM GMT  |  दिल्ली

कोरोना पर विजय के लिए सभी पक्षों को निभाना होगा ईमानदारी से अपना दायित्व
x

हस्तक्षेप / दीपक कुमार त्यागी

स्वतंत्र पत्रकार व स्तंभकार

विश्व में बेहद तेजी से महामारी का रूप धारण कर चुकें कोरोना वायरस की घातक मार के चलते, आज कोरोना वायरस की हर देश में हर तरफ जबरदस्त चर्चा है, वायरस के तेजी से फैलते संक्रमण के चलते हमारे देश में स्थिति यह हो गयी है कि कोरोना वायरस को भारत में तेजी से फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को रात 8 बजे अपने राष्ट्र के नाम संबोधन में, 25 मार्च से 21 दिन का 14 अप्रैल तक का देश में पूर्ण रूप से लॉकडाउन घोषित कर दिया है।

प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा हम सभी देशवासियों को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से लिए गए इस निर्णय को हम सभी को समय रहते ही अपने व देशहित में समझना होगा, सभी देशवासी लॉकडाउन का ईमानदारी से पालन करें, क्योंकि जब तक हम घर के अंदर बंद है तब तक पूर्ण रूप से सुरक्षित है और उस समय घर के बाहर महामारी फैलाने वाले कोरोना वायरस का अस्तित्व खतरें में है, हमारे लॉकडाउन के समय घर में रहने के इस ईमानदार प्रयास से देश में धीरे-धीरे कोरोना का वजूद आने वाले समय में समाप्त हो सकता है, हम सभी को हौसले के साथ एकजुट होकर दृढतापूर्वक संकल्प व संयम के साथ घर में रहकर भारत से इस महामारी के वायरस का वजूद बहुत जल्द ही मिटाना है। वैसे

भारतीय इतिहास में लॉकडाउन के चलते इस तरह के हालात पहली बार उत्पन्न हुए हैं। मानव चेन के द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण के बहुत तेजी से प्रसार के चलते, उस चेन को तोड़ने के उद्देश्य से आज हमारे देश के अधिकांश समझदार देशवासी अपने घरों के अंदर बचाव के लिए सरकार के आदेशानुसार बंद हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से अपने परिवार व रिश्तेदारों को बचाने के लिए घर-घर में कोरोना से बचाव के उपायों के बारे में जानने की जबरदस्त जिज्ञासा है, जिसका फायदा सोशल मीडिया के बयान वीर जमकर उठा रहे हैं, वो इस घातक कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के बारे में तरह-तरह के उपाय बता रहे हैं और इस बेहद तनावपूर्ण हालात में भी लोगों के बीच अफवाह फैलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। लेकिन हम सभी को हमेशा याद रखना है कि आधा-अधूरा ज्ञान के चलते यह नीम हकीम वाली प्रणाली एक पल में उस पर अमल करने वाले व्यक्ति के लिए खतरा-ए-जान बन सकती है, इसलिए सोशल मीडिया पर चल रही किसी भी बात की सत्यता परखें बिना उस पर अमल ना करें और ना ही उसको किसी दूसरे व्यक्ति को फारवर्ड करें। वैसे यहाँ आपको बता दे कि कोरोना वायरस का विश्व में अभी तक कोई कारगर इलाज नहीं है, भारत के अलावा भी बहुत सारे देशों के वैज्ञानिक इस घातक वायरस का इलाज ढूंढने के लिए पूरे जूनून के साथ लगें हुए हैं।

कुछ देशों में इसकी वैक्सीन का ट्रायल शुरू भी हो गया है, जिसका सकारात्मक परिणाम आने पर उसको बाजार में आने में अभी लगभग दो वर्ष का लम्बा समय लग सकता है। आज के समय में इस कोरोना वायरस से बचाव ही एकमात्र सबसे कारगर उपचार है, इसलिए घरों में रहकर लॉकडाउन के नियमों का सही ढंग से पालन करें, क्योंकि इस वायरस से बचने का सबसे कारगर तरीका अभी तक सुरक्षित बचाव के उपायों पर अमल करना ही हैं। इसलिए कोरोना वायरस के संक्रमण से खुद को व अपने सभी परिजनों को सुरक्षित रखने के लिए पूर्ण रूप से जिम्मेदारी के साथ बचाव के लिए सरकार के द्वारा जारी किये गये दिशा निर्देशों का सही ढंग से समय से पालन करें।

हमारे देश में आज इस कोरोना वायरस की ताकत ने विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में भी कभी एकजुट ना होने वाले देश के राजनेताओं व कुछ लोगों को भी तत्काल एकजुट कर दिया है, जो संकट से जूझ रहे देश के लिए अच्छी बात है। आज देश में उत्पन्न इस बेहद विकट परिस्थिति में हम सभी देशवासियों को यह समझना होगा कि 'जान है तो ही जहान है' अगर जान ही सुरक्षित नहीं रहेंगी तो यह धन-दौलत शोहरत किस काम आयेगी, इसलिए खुद को अपने परिजनों को पूर्ण संयम व संकल्प के साथ सावधानी बरतते हुए घरों में सुरक्षित रखें।

जिस तरह से चीन से चलकर कोरोना वायरस के संक्रमण ने आज चंद माह में ही पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। मानव इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी वायरस ने एक-एक करके देशों की सीमाओं को लांघते हुए मात्र कुछ माह में ही बहुत सारे देशों को बहुत तेजी से अपनी चपेट में ले लिया। आज कोरोना वायरस के जबरदस्त प्रकोप ने कुछ ही दिनों में हंसती-खेलती सम्पूर्ण मानवजाति के अस्तित्व पर एकाएक जीवन-मरण का प्रश्नचिन्ह लगा दिया है। विश्व का हर देश पिछले कुछ समय से अपनी सभी तरह की दिक्कतों को भूलकर, आज मानव सभ्यता के लिए सबसे बड़ा खतरा बन चुके कोरोना वायरस के घातक संक्रमण से अपने लोगों को बचाकर सुरक्षित रखने के लिए जबरदस्त तरीकों से जंग लड़ रहा है। लेकिन अफसोस किसी भी देश को अभी तक इस घातक वायरस पर विजय हासिल करने का कोई ठोस कारगर उपाय नहीं सूझ रहा है।

सम्पूर्ण विश्व में मानव सभ्यता पर वायरस के कहर का संकट दिन-प्रतिदिन बहुत तेजी से गहराता जा रहा है। आज हर देश की स्थिति किसी युद्ध के समय पर घोषित आपातकाल वाली हो गयी है। भारत के साथ-साथ विश्व के अधिकांश देशों के सारे सिस्टम के सामने सबसे बड़ी प्राथमिकता आज अपने देशवासियों को कोरोना से संक्रमित होने से बचाने की हो गयी है, शासन-प्रशासन, डॉक्टरों व सभी प्रकार के सहयोगी स्टाफ के बाकी सब काम लंबित कर दिये गये हैं, सभी को कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को बचाने की जिम्मेदारी दी जा रही है।

इस कोविड-19 वायरस के घातक हमले के कहर के चलते दुनिया के संक्रमित 198 देशों की अधिकांश आबादी कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए हर समय अपने घरों के अंदर बंद रहने पर मजबूर है। कोरोना के चलते विश्व में 21,297 (4.51 प्रतिशत) लोगों की अब तक मौत हो चुकी है, 471,821 लोग इसके संक्रमण से ग्रसित हुए हैं, जिसमें 335,821 लोग अभी एक्टिव पेशेंट है, अभी तक 114,703 (24.31 प्रतिशत) सं

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story
Share it