Top
Home > हेल्थ > कोलेस्ट्रॉल ही नहीं ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करता है यह ड्राई फ्रूट

कोलेस्ट्रॉल ही नहीं ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करता है यह ड्राई फ्रूट

बादाम का सेवन कोलेस्ट्रॉल के साथ ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करने में सहायक है.

 Alok Mishra |  19 Aug 2018 6:00 AM GMT  |  नई दिल्ली

कोलेस्ट्रॉल ही नहीं ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करता है यह ड्राई फ्रूट
x

नई दिल्ली : बादाम खाने का एक और फायदा सामने आया है। एक अध्ययन का दावा है कि सुबह के नाश्ते में बादाम के सेवन से कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ ही ब्लड शुगर को नियंत्रित करने की क्षमता को भी बेहतर किया जा सकता है। अमेरिका की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार, कॉलेज में पढ़ने वाले कई छात्र अक्सर ही सुबह का नाश्ता नहीं करते। रोजाना नाश्ता करने से ब्लड शुगर और इंसुलिन मेटाबोलिज्म समेत कार्डियोमेटाबोलिक जैसी समस्याओं के खतरों में कमी लाई जा सकती है।


शोधकर्ता रूडी आर्टिज ने कहा कि छात्रों पर किए गए इस पहले अध्ययन से यह जाहिर होता है कि सुबह का नाश्ता नहीं करने वालों के लिए बादाम खाना बेहतर हो सकता है। यह निष्कर्ष 73 स्वस्थ छात्रों पर किए गए अध्ययन के आधार पर निकाला गया है। उन्हें सुबह के नाश्ते में भुने बादाम खाने को दिए गए। इसका बेहतर लाभ पाया गया।


याददाश्त बढ़ाएं

स्‍मरण शक्ति को अच्‍छा बनाये रखने के लिए बादाम को काफी उपयोगी माना जाता है। बादाम का सेवन अल्‍जाइमर और अन्‍य मस्तिष्‍क संबंधी रोगों को दूर करने में मदद करता है। रोजाना सुबह पांच बादाम भिगोकर खाने से दिमाग तेज होता है।


सुधारे रक्‍त संचार

बादाम में पौटेशियम की मात्रा काफी अधिक होती है और साथ ही सोडियम भी काफी कम मात्रा में होता है। इससे हमारे शरीर में रक्‍त संचार सुचारू बना रहता है। रक्‍त संचार सुचारू रहने से शरीर के हर अंग में ऑक्‍सीजन सही प्रकार पहुंचती है और सभी अवयवों को सामान्‍य रूप से काम करने में मदद मिलती है।


हड्डियां बनाए मजबूत

बादाम में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है। कैल्शियम हड्डियों के लिए जरूरी होता है। इसलिए बादाम का सेवन करने वालों को हड्डियों की बीमारी यानी ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा कम हो जाता है। इसके साथ ही कैल्शियम दांतों को भी मजबूत बनाने का काम करता है।


कैंसर का खतरा कम करें

बादाम में फाइबर काफी अधिक मात्रा में होता है। फाइबर हमारी पाचन क्रिया को दुरुस्‍त बनाये रखने का काम करता है। पाचन क्रिया ठीक रहने से कोलोन कैंसर का खतरा काफी कम हो जाता है।


हृदय रोग से बचना है तो खायें ये प्रोटीनयुक्त उत्‍पाद

पशु आधारित प्रोटीन जैसे मीट और दुग्ध उत्पादों की जगह सोयाबीन, बादाम, अखरोट और दाल जैसे वनस्पति आधारित प्रोटीन के सेवन से कोलेस्ट्राल के स्तर में कमी लाने में मदद मिल सकती है। इससे हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे से बचा जा सकता है। यह दावा नए अध्ययन में किया गया है। शोधकर्ताओं के अनुसार, रोजाना वनस्पति आधारित प्रोटीन के सेवन से कोलेस्ट्राल के मार्कर मसलन लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्राल (एलडीएल या बैड कोलेस्ट्राल) के स्तर में पांच फीसद तक कमी लाई जा सकती है।


रोजाना बादाम, पिस्ता, मूंगफली और अखरोट खाने से इंसान की स्मरण शक्ति बढ़ती है। अमेरिका की लोमा लिंडा यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने पाया कि इनके सेवन से मस्तिष्क के कार्य करने की शक्ति बढ़ जाती है। इसमें पाया गया कि पिस्ता गामा किरणों से सबसे अधिक प्रतिक्रिया कर स्मरण शक्ति को बढ़ाता और सोने के दौरान आंखों की गति को तेज करता है। वहीं मूंगफली शरीर के रोग ठीक करने के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाती है। मूंगफली खाने से नींद भी गहरी आती है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it