Home > पाकिस्तान को एफ-16 विमान बेचेगा अमेरिका, भारत को आपत्ति

पाकिस्तान को एफ-16 विमान बेचेगा अमेरिका, भारत को आपत्ति

 Special News Coverage |  2016-02-14 09:34:34.0

पाकिस्तान को एफ-16 विमान बेचेगा अमेरिका, भारत को आपत्ति

वाशिंगटन: भारत के सख्त विरोध के बावजूद ओबामा प्रशासन ने पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू विमान बेचे जाने के अपने कदम को सही ठहराया है। अमेरिका का कहना है कि ये पाक के आतंकवाद रोधी अभियानों के लिए बहुत जरूरी हैं।

विदेश विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक अमेरिका पाकिस्तान के आतंकवाद रोधी और चरमपंथ रोधी अभियान में सहायता देने के लिए आठ एफ-16 विमान बेचे जाने के प्रस्ताव का समर्थन करता है। पाकिस्तान के मौजूदा एफ-16 लड़ाकू विमान इन अभियानों की सफलता में अब तक कारगर साबित हुए हैं। यह जवाब भारत की ओर से दर्ज किए गए सख्त विरोध के बाद आया है।


पाकिस्तान को एफ-16 विमान बेचेगा अमेरिका, पाकिस्तान को लड़ाकू विमानों की प्रस्तावित बिक्री रोकने की अमेरिकी सांसदों की मांग के बावजूद ओबामा प्रशासन ने पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू विमान बेचने के अपने फैसले के बारे में अमेरिकी कांग्रेस को अधिसूचित किया है। रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक दोनों ही दलों के प्रभावशाली सांसदों के बढ़ते विरोध के बावजूद अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कांग्रेस को अधिसूचित किया है कि वह पाकिस्तान सरकार को एफ-16 ब्लॉक 52 विमान, उपकरण, प्रशिक्षण और साजोसामान से जुड़े सहयोग वाली विदेशी सैन्य बिक्री करने को मंजूरी दे रहा है।

एफ-16 विमान हर मौसम में, दिन-रात अभियान चलाने में मदद करेंगे, आत्म-रक्षा क्षमता प्रदान करेंगे और उग्रवाद रोधी एवं आतंकवाद रोधी अभियान चलाने की पाकिस्तान की क्षमता को बढ़ाएंगे। पेंटागन की एजेंसी ने कहा, इससे पाकिस्तान वायु सेना के पास अभियान चलाने के लिए उपलब्ध विमानों की संख्या में वद्धि होगी, मासिक प्रशिक्षण की जरूरतें पूरी होंगी और चालकों को ब्लॉक-52 के चालन के प्रशिक्षण में मदद मिलेगी। पाकिस्तान को इन अतिरिक्त विमानों को अपनी वायुसेना में शामिल करने में कोई मुश्किल नहीं आएगी।

रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी ने कहा, इस प्रस्तावित बिक्री का यह नोटिस कानून के तहत जरूरी है और इसका यह मतलब नहीं है कि बिक्री पूरी हो चुकी है। पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू विमानों की प्रस्तावित बिक्री का पूरा समर्थन करते हैं। यह मंच पाकिस्तान के आतंकवाद रोधी और उग्रवादरोधी अभियानों में मदद करेगा और इसने अब तक इन अभियानों की सफलता में योगदान दिया है।

अधिकारी ने कहा, ये अभियान पाकिस्तानी क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकवाद की शरणस्थली और अफगानिस्तान में उग्रवाद को बढ़ावा देने वाले आधार के तौर पर किए जाने की आतंकियों की क्षमता को कम करते हैं। अधिकारी ने कहा कि ये अभियान पाकिस्तान और अमेरिका दोनों के राष्ट्र हित में हैं। इसके साथ-साथ यह पूरे क्षेत्र के हित में हैं। इन एफ-16 लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ किए जाने से जुड़ी भारत की आशंकाओं के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा, मुझे स्पष्ट तौर पर बता लेने दीजिए, किसी भी हथियार के हस्तांतरण से पहले हम क्षेत्रीय सुरक्षा और कुछ अन्य कारकों को ध्यान में रखते हैं। हमारा मानना है कि हमारी सुरक्षा मदद एक ज्यादा स्थायी और सुरक्षित क्षेत्र के लिए योगदान देती है।

पाकिस्तान, भारत और अफगानिस्तान के साथ हमारे सुरक्षा संबंध अलग-अलग हैं लेकिन हर संबंध अमेरिकी हित और क्षेत्रीय स्थिरता को आगे बढ़ाता है। ओबामा प्रशासन ने कांग्रेस को ऐसे समय पर अधिसूचना दी है, जब कई सांसद इस प्रस्तावित बिक्री का विरोध कर रहे हैं। इस सप्ताह की शुरूआत में, सीनेटर बॉब कॉरकर ने विदेश मंत्री जॉन केरी को पत्र लिखकर कहा था कि वह ऐसे किसी फैसले पर रोक लगाएंगे।

दो दिन बाद, विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान को एफ-16 बेचने के अपने इरादे को कांग्रेस के समक्ष अधिसूचित कर दिया। कांग्रेस के पास इस अधिसूचना पर काम करने के लिए 30 दिन हैं। प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने विश्वास जताया है कि इस बिक्री को सांसदों की मंजूरी मिल जाएगी।

Tags:    
Share it
Top