Top
Home > राज्य > जम्मू कश्मीर > श्रीनगर के लाल चौक पर इस बार कौन फहराएंगा तिरंगा? गृह मंत्री अमित शाह या कोई और जानिए इस खबर में!

श्रीनगर के लाल चौक पर इस बार कौन फहराएंगा तिरंगा? गृह मंत्री अमित शाह या कोई और जानिए इस खबर में!

जम्मू कश्मीर से अनुच्छे 370 हटा है वहा पर सुरक्षा की स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है, जिसमें कई क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है।

 Sujeet Kumar Gupta |  13 Aug 2019 9:14 AM GMT  |  नई दिल्ली

श्रीनगर के लाल चौक पर इस बार कौन फहराएंगा तिरंगा? गृह मंत्री अमित शाह या कोई और जानिए इस खबर में!

नई दिल्ली। हमेशा से जम्मू कश्मीर में लाल चौक पर तिरंगा फहराने को लेकर हिंसक घटनाए होती थी या तो वहा पर तिरंगा नही फहर पाता था।लेकिन इस बार केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 15 अगस्त को श्रीनगर के प्रसिद्ध लाल चौक पर राष्ट्रीय ध्वज, तिरंगा फहरा सकते हैं। हालांकि इसके लिए जम्मू और कश्मीर पुलिस मुख्यालय को अमित शाह की यात्रा की पुष्टि करनी है। लेकिन गृह मंत्री की यात्रा सुनिश्चित करने के लिए उच्च सुरक्षा उपाय किए जा रहे हैं।

सुरक्षा विशेषज्ञों का मानना ​​है कि अगर अमित शाह स्वतंत्रता दिवस पर लाल चौक पर तिरंगा फहराते हैं, तो यह पाकिस्तान और देश से निकलने वाले आतंकवादी समूहों को एक मजबूत संदेश भेज सकता है। बता दें कि 15 अगस्त के दिन लाल चौक पर सीआरपीएफ तिरंगा फहराती आई है और साल 1992 में मुरली मनोहर जोशी और भाजपा कार्यकर्ता नरेंद्र मोदी ने लाल चौक पर तिरंगा फहराकर पाकिस्तान एवं अलगाववादियों को यह संदेश दिया कि कश्मीर भारत का है और यहां राष्ट्रध्वज फहराने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता।

गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से पता चला है कि शाह कर्फ्यूग्रस्त जम्मू-कश्मीर का दौरा कर सकते हैं, लेकिन सुरक्षा कारणों से सटीक तारीखों की पुष्टि नहीं की जा सकती है। एक अधिकारी ने बताया कि, यह एक सुरक्षा चिंता है. दोनों देशों (भारत-पाकिस्तान) के बीच तनाव बढ़ने के बीच, गृह मंत्री की यात्रा का अग्रिम खुलासा नहीं किया जा सकता है। प्रोटोकॉल के अनुसार, गृह मंत्री के यात्रा कार्यक्रम को अंतिम समय में सरकारी समन्वय एजेंसियों के साथ साझा किया जाता है, जिसमें सीमा सुरक्षा बल और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) शामिल हैं।

जब से वहा पर अनुच्छे 370 हटा है वहा पर सुरक्षा की स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है, जिसमें कई क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है। धारा 370 को रद्द करने से पहले हिरासत में लिए गए कई लोग अब भी प्रतिबंधात्मक हिरासत में हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, जो राज्य में समग्र सुरक्षा स्थिति का आकलन करने के लिए घाटी में हैं, ने सोमवार को शहर और दक्षिण कश्मीर क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया, क्योंकि घाटी ने सख्त प्रतिबंधों के बीच ईद मनाई गई रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य में ईद पर हिंसा की कोई बड़ी घटना नहीं हुई. लाल चौक कई दशकों से राजनीतिक बैठकों का स्थान रहा है, जिसमें विभिन्न राष्ट्रीय और कश्मीरी नेताओं ने लोगों को संबोधित किया है।

आपको बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 और 35ए को हटाकर इसे केंद्र शासित प्रदेश बनाया है। जिसका मुस्लिम समुदाय ने स्वागत किया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it