Top
Home > राज्य > झारखंड > रांची > लालू यादव डरे रिम्स में अपने डेली रुटीन में किया बड़ा फेर बदल

लालू यादव डरे रिम्स में अपने डेली रुटीन में किया बड़ा फेर बदल

रिम्स में जहां लालू प्रसाद भर्ती हैं। आम दिनों में वह सुबह उठने के बाद पेईंग वार्ड से जुड़े कॉटेज के गलियारे में टहलते हैं। लेकिन गुरुवार को वह पेईंग वार्ड से निकलकर कॉटेज की तरफ गए भी नहीं।

 Sujeet Kumar Gupta |  6 March 2020 9:16 AM GMT  |  नई दिल्ली

लालू यादव डरे रिम्स में अपने डेली रुटीन में किया बड़ा फेर बदल
x

रॉची। चीन के वुहान शहर से फैला कोरोनावायरस भारत समेत दुनिया के कई देशों को अपनी चपेट में ले चुका है। इस वायरस के प्रभाव से दुनिया के विभिन्न हिस्सों में 3200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है वहीं लगभग 90 हजार लोग संक्रमित बताए जा रहे हैं। भारत में भी अब तक कोरोनावायरस के 31 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। कोरोना के खतरे से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों ने भी कमर कस ली है। वही रिम्स में बुधवार को एक संदिग्ध को कोरोना के लिए बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किए जाने के बाद लालू प्रसाद सहमे हुए हैं। हालांकि, संदिग्ध के सैंपल की जांच रिपोर्ट अभी कोलकाता से नहीं आई है।

दरअसल रिम्स में कोरोना के संदिग्ध मरीजों के लिए बना आइसोलेशन वार्ड उस पेईंग वार्ड से एकदम सटा हुआ है, जहां लालू प्रसाद भर्ती हैं। आम दिनों में वह सुबह उठने के बाद पेईंग वार्ड से जुड़े कॉटेज के गलियारे में टहलते हैं। लेकिन गुरुवार को वह पेईंग वार्ड से निकलकर कॉटेज की तरफ गए भी नहीं। यही नहीं, गुरुवार को वह धूप में भी नहीं बैठे। जबकि आम तौर पर वह सुबह का नाश्ता करने के बाद कॉटेज के गलियारे में जाते हैं। वहां कुर्सी लगाकर धूप सेकते हैं। प्राय: मुलाकातियों से भी वह वहीं पर मिलते हैं।

बुधवार को कोरोना की जांच के लिए सैंपल लिए जाने के बाद रांची के दो (पति-पत्नी) और पलामू के एक संदिग्ध को रिम्स में भर्ती किया गया था। रांची निवासी दोनों संदिग्ध सैंपल देने के बाद रिम्स से चले गए जबकि पलामू के हैदरनगर निवासी एक 42 वर्षीय मरीज को भर्ती किया गया। रिम्स प्रबंधन इस संदिग्ध मरीज को पेईंग वार्ड में ही एक अलग कमरे में रखना चाह रहा था। रिम्स अधीक्षक डॉ विवेक कश्यप ने इसके लिए पेईंग वार्ड जाकर निरीक्षण भी किया। लेकिन सूत्रों का कहना है कि लालू प्रसाद को जब इसकी सूचना मिली तो उन्होंने रिम्स प्रबंधन को ऐसा नहीं करने के लिए कहा। इसके बाद अधीक्षक ने आइसोलेशन वार्ड में ही उस मरीज को रखने की सहमति प्रदान कर दी।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it