Top
Begin typing your search...

Wistron iPhone factory violence : हिंसा के बाद Apple सप्लायर विस्ट्रॉन प्रोबेशन पर, इंडिया हेड को निकाला

विस्ट्रॉन ने कहा, "टीम के सदस्यों की सुरक्षा और भलाई हमेशा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है.

Wistron iPhone factory violence : हिंसा के बाद Apple सप्लायर विस्ट्रॉन प्रोबेशन पर, इंडिया हेड को निकाला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बेंगलुरू : एप्पल आईफोन्स (Apple iPhones)बनाने वाली कंपनी ताइवान बेस्ड कंपनी विस्ट्रॉन (Wistron) प्राइवेट लिमिटेड की कर्नाटक स्थित फैक्ट्री हुई हिंसा के एक सप्ताह बाद फर्म ने शनिवार को अपने शीर्ष कार्यकारी (Top Executive) को हटा दिया, जो कंपनी के इंडिया ऑपरेशन को देखते थे.

विस्ट्रॉन ने कहा, "टीम के सदस्यों की सुरक्षा और भलाई हमेशा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है," स्वीकार कर रहे हैं कि "कुछ श्रमिकों को सही ढंग से या समय पर भुगतान नहीं किया गया था." एक बयान में, एप्पल ने कहा कि आपूर्तिकर्ता को प्रोबेशन पर रखा गया है और यह "सुधारात्मक कार्यों को पूरा करने से पहले कोई नया बिजनेस प्राप्त नहीं करेगा."

पिछले शनिवार को बेंगलुरू के पास कारखाने के कई हजार ठेका मजदूरों ने कथित तौर पर मजदूरी का भुगतान न करने पर नाराजगी जताई, इस दौरान फैक्ट्री की संपत्ति और उपकरणों को नष्ट कर दिया. एप्पल आपूर्तिकर्ता ने 7.12 मिलियन यूएस डॉलर का हर्जाना लगाया था. इस सप्ताह के शुरू में, केंद्र ने राज्य को मजदूरी और श्रम-संबंधी विवादों को देखने के लिए कहा, और यह सुनिश्चित किया कि हिंसा के परिणामस्वरूप निवेशक भावना प्रभावित न हो.

ताइवान फर्म ने आज एक बयान में कहा, "हम भारत में हमारे व्यवसाय की देखरेख करने वाले वाइस प्रजिडेंट को हटा रहे हैं. हम अपनी प्रक्रियाओं को भी बढ़ा रहे हैं और इन मुद्दों को फिर से न होने देने के लिए अपनी टीमों का पुनर्गठन कर रहे हैं."

समाचार एजेंसी एएनआई ने फर्म के हवाले से बताया है, "हमारी टीम के सदस्यों की सुरक्षा और भलाई हमेशा हमारे शीर्ष प्राथमिकता और विस्ट्रॉन का मुख्य मूल्य है. हमारी नरसापुरा फैक्ट्री में दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के बाद से हमने पाया है कि कुछ श्रमिकों को सही ढंग से या समय पर भुगतान नहीं किया गया था. हम अपने सभी कर्मचारियों से गहरा खेद व्यक्त करते हैं और माफी मांगते हैं. "


Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it