Home > राज्य > कर्नाटक > बैंगलोर > क्या खतरे में कर्नाटक सरकार!

क्या खतरे में कर्नाटक सरकार!

 Special Coverage News |  22 Dec 2018 12:55 PM GMT  |  बैंगलोर

क्या खतरे में कर्नाटक सरकार!

कर्नाटक की छह महीने पुरानी गठबंधन सरकार में शनिवार शाम लंबे इंतजार के बाद मंत्रिमंडल विस्तार होने जा रहा है. कांग्रेस के सात विधायक और एक एमएलसी को कैबिनेट फेरबदल के तहत एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली सरकार में बतौर मंत्री जगह मिलेगी. राज्यपाल वजुभाई वाला शाम 5:20 बजे नए मंत्रियों को शपथ दिलाएंगे.


कुंडगोल निर्वाचन क्षेत्र के सीएस शिवल्ली, होसाकोटे के एमटीबी नागराज, संडूर के ई तुकाराम, बाबलेश्वर के एमबी पाटिल, हाडागल्ली के पीटी परमेस्वर नाइक, यमकानमर्डी के सतीश जारकिहोली और बीदर के विधायक रहीम खान और एमएलसी आर बी थिम्मारपुर को मंत्री बनाया जाएगा. इन मंत्री दावेदारों में से दो अनुसूचित जनजाति के हैं. दो कुरुबा के और एक-एक अनुसूचित जाति, लिंगायत, लंबानी और अल्पसंख्यक समुदाय के हैं. मंत्रीमंडल में कांग्रेस के कोटे के छह मंत्री पद और जेडीएस के दो मंत्री पद हैं. ऐसे संकेत दिए गए हैं कि जेडीएस अपने दो पद छोड़ देगी.


वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व गृह मंत्री रामालिंगा रेड्डी का नाम मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल नहीं किए जाने पर पार्टी में असंतोष फैल सकता है. उनकी बेटी और जयनगर विधायक सौम्या रेड्डी ने बगावती तेवर दिखाए हैं. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर नाराजगी भी जाहिर की है. सौम्या रेड्डी ने सीएनएन न्यूज 18 से बातचीत में बताया, 'मेरे पिता सात बार विधायक और चार बार मंत्री रह चुके हैं. यह दुर्भाग्यपूर्ण और हम सभी के लिए चौंकाने वाला है कि मंत्रीमंडल विस्तार में उनका नाम नहीं है. जबकि वर्तमान कैबिनेट में कुछ जूनियर और कुछ वरिष्ठ हैं? सूची में तीन ऐसे लोगों के नाम शामिल हैं जो मेरे पिता के समान ही वरिष्ठ हैं. लेकिन उन्हें मंत्री बनाया गया है. मेरे लिए यह आश्चर्य की बात है. मेरे पिता मंत्री बनने के लायक हैं.'


रामालिंगा रेड्डी के समर्थकों ने उनका नाम नई कैबिनेट में शामिल करने की मांग को लेकर शनिवार को कांग्रेस मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया. हवेरी जिला के हिरेकर निर्वाचन क्षेत्र के विधायक बीसी पाटिल ने पार्टी के प्रति नाराजगी जाहिर की है. न्यूज 18 कन्नड़ से बात करते हुए उन्होंने बताया, 'मैं निराश हूं. मेरे क्षेत्र के साथ अन्याय हुआ है. 30 साल से ज्यादा समय से यहां से कोई मंत्री नहीं बनाया गया. मैंने सिद्धारमैया पर भरोसा किया था.'


सांत्वना देने के तौर पर गडग विधायक और पूर्व मंत्री एचके पाटिल को अब कांग्रेस कर्नाटक प्रचार समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है. उन्होंने मंत्री डीके शविकुमार की जगह ली है. हालांकि कांग्रेस के कई नेताओं से इससे इनकार किया है. राहुल गांधी ने शुक्रवार रात पार्टी के कर्नाटक प्रभारी सचिव केसी वेणुगोपाल, कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धा रमैया, प्रदेश कांग्रेस प्रमुख दिनेश गुंडु राव और उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर राव के साथ बैठक के बाद इन नामों को मंजूरी दी थी.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top