Top
Begin typing your search...

हिन्दू महासभा ने शुरू की गोडसे ज्ञानशाला, बताएगी देशभक्ति के किस्से, मचा सियासी बवंडर

हिन्दू महासभा ने ग्वालियर के दौलतगंज स्थित हिंदू महासभा के कार्यालय में गोडसे कार्यशाला शुरू की है.

हिन्दू महासभा ने शुरू की गोडसे ज्ञानशाला, बताएगी देशभक्ति के किस्से, मचा सियासी बवंडर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ग्वालियर : महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे पर हिन्दू महासभा ने स्टडी सेंटर खोला है. हिन्दू महासभा की भाषा में ये स्टडी सेंटर अथवा ज्ञानशाला है. इसे ग्वालियर में खोला गया है. इस स्टडी सेंटर में हिन्दू महासभा नाथूराम गोडसे की देशभक्ति के किस्से लोगों को बताएगी.

हिन्दू महासभा ने ग्वालियर के दौलतगंज स्थित हिंदू महासभा के कार्यालय में गोडसे कार्यशाला शुरू की है. यहां पहले दिन हिंदू महासभा के पदाधिकारियों ने गोडसे सहित वीर सावरकर, रानी लक्ष्मीबाई और संघ से जुड़े अन्य पदाधिकारियों की तस्वीर की पूजा-अर्चना की और उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए.

हिन्दू महासभा यहां अभी भी हर साल गोडसे का बलिदान दिवस और जन्मदिवस मनाती है. अब उसने गोडसे ज्ञानशाला ही शुरू कर दी है. हिंदू महासभा के डॉ जयवीर ने बताया कि युवा पीढ़ी को ये जानना चाहिए कि राष्ट्र को बचाने के लिये गोड़से के साथ-साथ सभी देशभक्तों ने किस प्रकार प्रतिकार किया है. इस ज्ञानशाला में हिन्दू महासभा गोडसे की जीवनी से जुड़े प्रसंग लोगों को बताएगी.

हिन्दू महासभा देश के बंटवारे का इतिहास भी लोगों को बताएगी और इससे लोगों को जागरुक करेगी. हिन्दू महासभा के अनुसार वह लोगों को वीर सावरकर, रानी लक्ष्मीबाई, राणा प्रताप के कदमों पर लोगों को चलने के लिए प्रेरित करेगी. बता दें कि 30 जनवरी 1948 को दिल्ली में नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. जयवीर भारद्वाज ने आरोप लगाया कि देश विभाजन के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है, जिसके कारण अखंड भारत के दो टुकड़े हुए और करीब पांच लाख हिंदुओं की हत्या की गई तथा 20 लाख से ज्यादा हिंदू विस्थापित हुए।

उन्होंने कहा कि देश विभाजन को कांग्रेस ने स्वीकार किया और उसके कारण आज पाकिस्तान दुश्मन है और भारत का बहुत बड़ा धन उसके साथ सुरक्षा में खर्च होता है। उन्होंने कहा कि यही नहीं, कांग्रेस ने ही देश में हिंदू और मुसलमान के बीच नफरत बढ़ाई। इसी कारण कांग्रेस ने नाथूराम गोडसे और नारायण राव आप्टे का अदालत में दिया गया बयान 50 वर्षों तक बाहर नहीं आने दिया।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it