Top
Home > राज्य > महाराष्ट्र > मुम्बई > सुशांत केस : संजय राउत बोले, पिता की दूसरी शादी से आहत थे सुशांत, परिवार से नहीं थे अच्छे रिश्ते

सुशांत केस : संजय राउत बोले, 'पिता की दूसरी शादी से आहत थे सुशांत, परिवार से नहीं थे अच्छे रिश्ते'

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कई सवाल उठाए हैं और गंभीर आरोप लगाए हैं।

 Arun Mishra |  9 Aug 2020 12:34 PM GMT  |  Delhi

सुशांत केस : संजय राउत बोले, पिता की दूसरी शादी से आहत थे सुशांत, परिवार से नहीं थे अच्छे रिश्ते
x

मुंबई : सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में राजनीति गरमाती जा रही है। इस केस को लेकर मुंबई और बिहार पुलिस के बीच खींचतान चल रही है। अब यह मामला महाराष्ट्र की राजनीति का अहम मुद्दा बन गया है। इस मामले को लेकर अब शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कई सवाल उठाए हैं और गंभीर आरोप लगाए हैं। शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादकीय में उन्होंने बिहार पुलिस और केंद्र सरकार पर आरोप लगाए हैं कि वे मिलकर महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ साजिश रच रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने बिहार के डीजीपी पर आरोप लगाया कि वह बीजेपी के कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने सुशांत के पिता की दूसरी शादी करने और बाप-बेटे के आपसी संबंध अच्छे न होने की बात भी कही है।

संजय राउत ने आरोप लगाया कि सुशांत का परिवार मतलब पिता पटना में रहते हैं। उनके पिता से उसके संबंध अच्छे नहीं थे। पिता ने दूसरी शादी कर ली थी जिस सुशांत ने स्वीकार नहीं किया था। पिता से उसका भावनात्मक संबंध शेष नहीं बचा था। उसी पिता को बरगलाकर बिहार में एक एफआईआर दर्ज कराई गई व मुंबई में घटे गुनाह की जांच करने के लिए बिहार की पुलिस मुंबई आई।

'पहले ही लिखी गई सुशांत की पटकथा'

संजय राउत ने कहा कि मुंबई पुलिस पर आरोप लगाकर बिहार सरकार ने केंद्र से सीबीआई जांच की मांग की। 24 घंटे के अंदर यह मांग मान भी ली गई। यह राज्य की स्वायत्ता पर सीधा हमला है। सुशांत का मामला कुछ और समय मुंबई पुलिस के हाथ में रहता तो आसमान नहीं टूट जाता लेकिन यह राजनीतिक निवेश और दबाव की राजनीति है। उन्होंने यहां तक कहा कि सुशांत प्रकरण की 'पटकथा' पहले ही लिखी गई थी।

'मुंबई पुलिस का अपमान'

शिवसेना सांसद ने कहा कि मुंबई पुलिस दुनिया का सर्वोच्च जांच तंत्र है। मुंबई पुलिस दबाव का शिकार नहीं होती। यह पूरी तरह प्रफेशनल है। शीना बोरा हत्याकांड से लेकर 26/11 आतंकवादी हमले का जवाब मुंबई पुलिस ने ही दिया। सशक्त सबूत इकट्ठा करके कसाब को फांसी पर पहुंचाया। सुशांत जैसे मामले में केंद्र का हस्तक्षेप करना मुंबई पुलिस का अपमान है।

सुप्रीम कोर्ट पर भी उठाए सवाल

संजय राउत ने सीबीआई पर आरोप लगाया कि सीबीआई स्वतंत्र और निष्पक्ष नहीं है। जिनकी सरकार केंद्र में होती है, सीबीआई उनकी ताल पर काम करती है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट से लेकर ईडी, सीबीआई जैसी संस्थाओं पर बीते कुछ वर्षों में सवालिया निशान लग चुके हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि महाराष्ट्र में बीजेपी उद्धव ठाकरे की सरकार को गिराने का प्रयास कर रही है। सरकार नहीं गिरा पा रहे हैं तो बदनाम किया जा रहा है।

'बीजेपी से चुनाव के लिए टिकट मांग रहे बिहार डीजीपी'

बिहार के डीजीपी के बारे में संजय राउत ने कहा कि 2009 में वह डीआईजी रहते हुए पुलिस सेवा से वीआरएस लेकर सीधे राजनीति में कूद गए। विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर बक्सर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए खड़े हो गए लेकिन भाजपा के सांसद लालमुनि चौबे की बगावत करने की धमकी दिए जाने के साथ ही चौबे की उम्मीदवारी फिर बरकरार कर दी गई। इससे गुप्तेश्वर पांडे बीच में ही लटक गए. उनकी अवस्था 'न घर के न घाट के' जैसी हो गई। इस तरह से राजनीति में घुसने का उनका मिशन फेल हो गया। उसके बाद उन्होंने सेवा में लौटने के लिए फिर आवेदन किया। अब वह आगामी विधानसभा चुनाव में हाथ आजमाने की तैयारी कर रहे हैं।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story
Share it