Top
Begin typing your search...

खुलासाः ISIS ने दिया भारतीय हैकर्स को इतना बड़ा ऑफर

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
e84e96886
आप लोग इस खबर पर शायद ही विश्वास करेंगे, परन्तु साइबर एक्सपर्ट की बात का विश्वास करें तो आतंकी संघठन ISIS (इस्लामिक स्टेट) अब तक 30000 हजार लोंगों को भारतीय सरकारी डेटा चुराने का बड़ा ऑफर दे चूका है।


IS भारत में अपना नेटवर्क इसी तरीके से भारी सेलरी का ऑफर देकर सरकारी डेटा को उड़ने के लिए दे रहा है, ताकि युवा उसके झांसे में आकर एसा लालचवश करें।

आइएसआइएस का भारी ऑफर
न्यूज पोर्टल डेलीमेल के अनुसार आइएसआइएस ने हेकरों से सोशल मिडिया के तहत ही संपर्क साधा है, और फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से उन युवायों की जानकारी चाहते है जो उनके कम आ सकें एवम उनके संघठन के लिए भर्ती कर सकें। आइएसआइएस ने इस काम के लिए 10000 डॉलर की भारी भरकम रकम की पेशकश की है। भारतीय मुद्रा में ये कीमत 6,77,000 रुपया होता है जो की बहुत ही ज्यादा है। हैकर्स की बात माने तो ये ऑफर भारत के हैकर कम्युनिटी के लिए अब तक सबसे लुभावना ऑफर है।


डेलीमेल के अनुसार विभिन्न सरकारी सुरक्षा एजेंसियों के लिए काम करने वाले साइबर एक्सपर्ट किसलय चौधरी के मुताबिक अब तक कई ऐसे ऑन्लाइन अंडरग्राउंड कम्युनिटीज है जहाँ हैकर नियमित रूप से सम्पर्क साधते रहते है। हमारी जांच में सामने आया है कि पिछले छह महीने से इस ऑफर की बरसात हो रही है। भारतीय हैकरों को इतनी बड़ी रकम का ऑफर कभी नहीं मिला है, ये काफी बड़ी रकम है। आइएसआइएस इतनी बड़ी रकम देकर अपने पाँव जमाना चाहता है।


चौधरी ने आगे बताया है कि ये आइएसआइएस की बौखलाहट को प्रदर्शित करता है, भारत में अपने पैर जमाने के लिए उसे सरकारी डेटा की बहुत जरूरत होती है। लेकिन उसके द्वारा किये गये 30000 हैकर्स में उसके ऑफर को कई भारतीय ने स्वीकार किया है। जिस कारण भारत में अभी लगातार गिरफ्तारियां हो रही है।


एक्सपर्ट बताते है कि भर्ती किये गये ये हैकर्स अपने सीरिया में बैठे आकाओं से स्काईप, वाट्सएप, सर्किल और टेलीग्राम के माध्यम से सम्पर्क में रहते है। अभी काफी दिनों से भारत के खिलाफ सोशल मिडिया पर जहर उगलने बालों की एक्टिव प्रोफाइलों की संख्या बड़ी है। इनके ज्यादातर यूजर्स दक्षिणी भारत, राजस्थान, कश्मीर, यूपी और महाराष्ट्र से है। भारत में बैठे ये आइएसआइएस एजेंट तमिल, हिंदी,गुजराती और उर्दू भाषा समेत कई क्षेत्रीय भाषाओँ में अपना नेटवर्क फैला रहे है।



इस मामले में सुरक्षा एजेंसियों ने सख्ती दिखाते हुए 94 वेबसाइटों को ब्लाक किया गया है। ये ब्लाक महाराष्ट्र एटीएस ने किया है। साथ भारतीय सरकार ने 24X7 सोशल मिडिया पर नजर रखने के लिए वार रम बनाने जा रही है।
Special News Coverage
Next Story
Share it