Top
Home > Archived > निर्भया के क्रूर हत्यारे की रिहाई पर क्यों मौन है, अवार्ड वापसी गिरोह?- कैलाश

"निर्भया के क्रूर हत्यारे की रिहाई पर क्यों मौन है", 'अवार्ड वापसी' गिरोह?- कैलाश

 Special News Coverage |  20 Dec 2015 8:55 AM GMT


Kailash Vijayvargiya
नई दिल्लीः बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्विट कर कहा कि इस देश की छोटी से छोटी बात पर हंगामा करने वाले गिरोह कहा है जब आज एक बेहद दर्दनाक घटना का मुख्य क्रूर हत्यारा आज जेल से बाहर हो रहा है। अब क्यों नहीं हो रहे है अवार्डों की वापसी। उनोहने लिखा है "निर्भया के क्रूर हत्यारे की रिहाई पर क्यों मौन है अवार्डवापसी गिरोह?अब उनकी आत्मा मारी गयी है या कोई चुनाव नहीं चल रहा है?देश जवाब चाहता है।"

प्रदर्शन करते निर्भया की मां को पुलिस ने हिरासत में लिया, केजरीवाल ने जताई हैरानी


19 दिसंबर से है गांधी फैमिली का संयोग, जानिए कैसे
कैलाश ने लिखा है कि इंदिराजी की बहू की नसीहत तो सोनिया गांधी ने दी लेकिन उनके पदचिन्हों पर नहीं चल पायी क्यों? 19 दिसम्बर 1978 को इंदिराजी को तिहाड़ जेल भेजा गया था। जबकि उसी तारीख को सोनिया गाँधी 19 दिसम्बर 2015 को जेल जाने से क्यों डरी, क्या यही नसीहत थी। उनोहने लिखा है कि क्या सचमुच सोनिया जी इन्दिरा जी की बहू हैं? सास ने हँसते हंसते जेल चुनी थी और बहू ने डरते डरते बेल।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it