Top
Begin typing your search...

ब्रसेल्स: PM मोदी का आतंकवाद पर करारा जवाब, बोले - भारत कभी आतंकवाद के आगे घुटने नहीं टेकेगा

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
Photo Credit : PIB

ब्रसेल्स : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद पूरी मानवता के लिये एक गंभीर चुनौती बना हुआ है और पूरे विश्व को मिलकर इससे लड़ना होगा।

मोदी ने यहां भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुये कहा कि आतंकवाद किसी एक देश को नहीं बल्कि मानवता को चुनौती दे रहा है। भारत 40 सालों से आतंकवाद झेल रहा है लेकिन यह देश न कभी आतंकवाद के सामने झुका है और न ही झुकेगा। उन्होंने कहा कि जो लोग मानवता में विश्वास रखते हैं, उन्हें मिलकर आतंकवाद से लड़ना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के 90 देश किसी न किसी आतंकी घटना के शिकार हुए। हजारों लोगों ने अपनी जानें गंवाई है। आतंकवाद किसी एक देश की चुनौती नहीं है बल्कि यह पूरे विश्व के लिये एक गंभीर चुनौती है। इस समय आतंकवाद पूरी मानवता को चुनौती दे रहा है। इसालिये मानवता में विश्वास करने वाली दुनिया की सारी शक्तियों का एक साथ मिलकर आतंकवाद से मुकाबला करना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्व आतंकवाद के असर को सिर्फ अब महसूस कर रहा है जबकि भारत इस खतरे का सामना पिछले 40 साल से भी अधिक समय से कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘दुनिया 9/11 से दहल गई। तब तक वैश्विक शक्तियों ने यह नहीं समझा था कि भारत किस स्थिति से गुजर रहा है। लेकिन भारत ने कभी भी आतंकवाद के आगे घुटने नहीं टेके और उसके सामने झुकने का कोई सवाल ही नहीं उठता।’

संयुक्त राष्ट्र के संदर्भ में मोदी ने कहा कि उसके पास युद्ध से निपटने का हर साधन और प्रक्रिया है लेकिन यह दुर्भाग्य ही है कि संयुक्त राष्ट्र यह नहीं जानता कि आतंकवाद की परिभाषा क्या है और इससे कैसे निपटना है।

उन्होंने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र इस संदर्भ में अपना कर्तव्य नहीं निभा पाया है। यदि संयुक्त राष्ट्र इस समस्या से नहीं निपटता है तो वह दिन दूर नहीं, जब वैश्विक संस्था अपनी प्रासंगिकता ही खो बैठेगी।’ मोदी ने कहा कि वैश्विक नेताओं को आतंकवाद के खात्मे की पहल करनी होगी। ऐसा करने में विफल रहने पर विश्व को और अधिक तबाही देखनी पड़ सकती है।

अपने एक घंटे के संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को भी रेखांकित किया, जिसमें भ्रष्टाचार खत्म करने, सरकार के कामकाज में पारदर्शिता लाने के साथ-साथ विभिन्न कार्यक्रमों का भी उल्लेख किया गया। प्रधानमंत्री के भाषण से पहले ब्रसेल्स बम हमलों में मारे गए लोगों की याद में एक मिनट का मौन रखा गया।

Special News Coverage
Next Story
Share it