Home > Archived > पीएम मोदी ने छात्रों से की मन की बात, कहा- दूसरों की उम्मीदों के दबाव में न आएं

पीएम मोदी ने छात्रों से की 'मन की बात', कहा- दूसरों की उम्मीदों के दबाव में न आएं

 Special News Coverage |  28 Feb 2016 7:06 AM GMT

PM Modi Mann Ki Baat


नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को बोर्ड एग्जाम को लेकर 'मन की बात' की। उन्होंने छात्रों को परीक्षा में सफलता के गुर सिखाए। बजट का जिक्र करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि कल संसद में 125 करोड़ नागरिक मेरी परीक्षा लेंगे। मन की बात की 17वीं कड़ी में‍ क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने छात्रों को सफलता के मंत्र दिए और कहा कि स्टूडेंट दूसरों की उम्मीदों के दबाव में न आएं, अपने लक्ष्य खुद तय करें।


पीएम मोदी ने कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए कहा कि छात्रों मुझे भी एग्जाम की उतनी ही चिंता है जितनी आपको है और मैं आपकी चिंता में शामिल हूं। पीएम मोदी ने कार्यक्रम की शुरुआत सचिन तेंडुलकर के संदेश से कराई। पीएम मोदी ने कहा कि इस कार्यक्रम की शुरुआत दुनिया का सबसे बढ़िया ओपनर करे जिस पर युवाओं को नाज है।

सचिन तेंडुलकर ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, 'आपको एग्जाम को लेकर चिंता होगी और परिवार की बहुत सी अपेक्षाएं आप से होंगी। आप किसी की अपेक्षाओं को मत देखिए बल्कि खुद के लक्ष्य तय करिए। मैंने अपने खुद के लक्ष्य तय करके सफलता पाई है मुझसे भी लोगों की अपेक्षाएं रहती थीं लेकिन मैंने खुद के लिए लक्ष्य तय किए और खुद से अपेक्षाएं कीं।' सचिन तेंडुलकर ने छात्रों को आगामी परीक्षा के लिए मुबारकबाद दी।

पीएम मोदी ने कहा कि प्रतिस्पर्धा की जगह अनुस्पर्धा होनी चाहिए, आप खुद ही अपने रेकॉर्ड तोड़ें। उन्होंने जरूरी नींद लेने के लिए कहा साथ ही अपने कम नींद लेने की आदत को भी उन्होंने बताया। पीएम मोदी ने अगला संदेश शतरंज चैंपियन विश्वनाथ आनंद की तरफ से सुनवाया। आनंद ने छात्रों को बाधाई देते हुए कहा कि संयम रखिए, नींद ठीक से लीजिए और अपनी आशाएं मत बढ़ाइये।

पीएम मोदी ने आध्यात्मिक गुरु और कथावाचक मोरारी बापू साथ ही भारतरत्न वैज्ञानिक प्रो. सीएनआर राव के संदेश भी सुनाए जिन्होंने एकाग्रता और संयम पर बल देते हुए छात्रों को डटे रहने की बात कही।

नरेंद्र मोदी ऐप पर आए रजत अग्रवाल के संदेश को भी पीएम मोदी ने सुनाया जिन्होंने छात्रों को कुछ समय अपने परिवार के साथ बिताने और गप्पे मारने की बात कही थी। पीएम मोदी ने कहा कि हम एग्जाम देकर भी सवालों के जोड़ घटाव में लगे रहते हैं, एग्जाम के समय जो हुआ उसे मत याद करिए और अपने परिवार के साथ समय बिताइये।

पीएम मोदी ने टीचर्स, पैरंट्स, सीनियर स्टूडेंट्स से आग्रह किया कि सब मिलकर परीक्षा में छात्रों की मदद करें तो सब आसान हो जाएगा। पीएम ने कहा कि वह आज पैरंट्स को ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहते हैं बस इतना कहना चाहते हैं कि कृपया छात्रों पर दबाव मत बनाइये बल्कि सकारात्मक वातावरण बनाइए।

छात्रों को एग्जाम टिप देने के अलावा पीएम मोदी ने विज्ञान से लोगों को जुड़ने की अपील की। पीएम मोदी ने बताया कि आज राष्ट्रीय विज्ञान दिवस है जो सर सीवी रमन द्वारा 28 फरवरी 1928 को रमन इफेक्ट की घोषणा के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। पीएम मोदी ने ग्रैविटेशनल वेव की खोज में भारतीय वैज्ञानिकों के योगदान की सराहना करते हुए भारत में खोज के लिए स्थापित किए जाने वाले LIGO केंद्र की भी जानकारी दी।

प्रधानमंत्री रेडियो पर इस कार्यक्रम के जरिए अलग-अलग मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं। पीएम ने 31 जनवरी को प्रसारित पिछले 'मन की बात' कार्यक्रम में खादी को बढ़ावा देने, फसल बीमा योजना से देश के 50 फीसदी किसानों को जोड़ने और स्टार्ट अप अभियान के बारे में बात की थी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top