Top
Begin typing your search...

मोदी सरकार के मंत्री महेश शर्मा बोले, देश के लोगों की इच्छा है कि 'राम मंदिर' बने

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
Minister Mahesh Sharma


नई दिल्ली : मोदी सरकार में मंत्री महेश शर्मा ने कहा है कि इस देश की जनता का सपना है कि अयोध्या में राम मंदिर जल्द से जल्द बनना चाहिए। महेश शर्मा ने कहा, 'देश के लोगों की इच्छा है कि देश में राम मंदिर बने।' हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि मामला कोर्ट में है। ऐसे में मंदिर का निर्माण आम सहमति या कोर्ट के आदेश से हो। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से राम मंदिर के निर्माण को लेकर सुगबुगाहट बढ़ गई है। इससे पहले भी अयोध्या के पास शिलापूजन किया गया था।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उनकी पार्टी और सरकार ने भी इस पर अपना मत दे दिया है। सरकार का भी कहना है कि देशवासी राम मंदिर बनाना चाहते हैं। हालांकि मामला सुप्रीम कोर्ट में होने की बात पर उन्होंने कहा, 'हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे या किसी तरह सहमति के माध्यम से राम मंदिर बनाने का प्रयास करेंगे। इसी वजह से इसमें अभी समय लग रहा है। ' उन्होंने कहा कि अयोध्या में एक भव्य रामायण म्यूजियम बन रहा है, जिसके लिए सरकार ने 170 करोड़ की योजना घोषित की है।

शर्मा के इस बयान पर भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि राम मंदिर कोई राजनीतिक या चुनावी मुद्दा नहीं है और ये मामला कोर्ट में हैं।

वहीं, उत्तर प्रदेश में सत्ताधारी समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि जब तक प्रधानमंत्री इस विषय पर कुछ न कहे तब तक किसी और के बयान को गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है। कोर्ट के निर्णय के खिलाफ कोई भी जाएगा तो अखिलेश सरकार उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी।

आपको बतादें इसके पहले मोदी सरकार में संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने भी यह कहते हुए मुद्दे को हवा दे दी कि सभी देशवासी राम मंदिर चाहते हैं। नायडू ने शीतकालीन सत्र को लेकर मीडिया से बातचीत के दौरान यह बात कही थी।

राम मंदिर के मुद्दे पर शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन राज्य सभा में जमकर हंगामा हुअा था। अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए पहुंच रहे शिला को लेकर विपक्ष ने सत्ता पक्ष से स्पष्टीकरण मांगा था। सत्तापक्ष की अोर से सदन में कहा गया कि मामला कोर्ट में है। कोर्ट के अादेश से ही कुछ हो सकता है।
Special News Coverage
Next Story
Share it