Top
Home > राष्ट्रीय > 3 अक्टूबर 2018 : दिन भर की 5 बड़ी खबरों का पोस्टमार्टम, देखिए- LIVE Video

3 अक्टूबर 2018 : दिन भर की 5 बड़ी खबरों का पोस्टमार्टम, देखिए- LIVE Video

रंजन गोगोई बने नए चीफ जस्टिस, न कार है, न घर और न ही कोई कर्ज?

 Arun Mishra |  3 Oct 2018 11:45 AM GMT  |  दिल्ली

x

आज की पांच बड़ी ख़बरों का पोस्टमॉर्टम

1. मोदी-योगी के रवैये से किसान नाराज़, राजघाट पहुंच कर वापिस लौटे

स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे देश भर के किसानों के प्रति रुख में नरमी लाते हुए केंद्र सरकार ने मंगलवार रात 12.40 बजे किसानों के जत्थे को दिल्ली में किसान घाट जाने की इजाजत दे दी। इसके बाद किसानों ने दिल्ली कूच किया। इसके लिए गाजियाबाद एसएसपी ने बसों का इंतजाम भी किया। कुछ मांगों पर सहमति नहीं बनने के बावजूद किसानों ने आंदोलन खत्म कर अपने-अपने घर लौट जाने का फैसला किया। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि, 'फिलहाल किसान राजघाट और किसान घाट पहुंचकर लौट जाएंगे। बाकी बची मांगों के लिए सरकार को मांग पत्र दिया गया है, जिसके लिए सरकार ने समय मांगा है। लाठीचार्ज के लिए दिल्ली पुलिस ने माफी मांगी है।'

2. रंजन गोगोई बने नए चीफ जस्टिस, न कार है, न घर और न ही कोई कर्ज

आज जस्टिस रंजन गोगोई ने बुधवार को देश के 46वें प्रधान न्यायाधीश (CJI) के तौर पर शपथ ली और अपन कार्याभार संभाला। उनका कार्यकाल 13 महीने से कुछ ज्यादा होगा। वो 17 नवंबर 2019 को होंगे रिटायर होंगे। जस्टिस गोगोई पूर्वोत्तर से आने वाले पहले सीजेआई हैं। वो इमानदारी का मिसाल हैं। उनके पास अपना एक भी घर या कार नहीं है। न ही उन्होंने कोई लोन लिया है। वो 28 फरवरी 2001 को गुवाहाटी हाई कोर्ट के जज बने थे और 23 अप्रैल 2012 को सुप्रीम कोर्ट जज के रूप में शपथ ली। उनके पिता असम के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। वो ऐसे पहले चीप जस्टिस है जिनके पिता करिसी प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं।

3. राफेल डील को वायुसेना चीफ की क्लीन चिट, बताया सरकार का बोल्ड फैसला

राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर मची सियासी रार के बीच भारतीय वायुसेना के प्रमुख ने फ्रेंच कंपनी दसॉ एविएशन के साथ हुए इस सौदे को सही ठहराया है। वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने कहा है कि हमें अच्छा पैकेज मिलने के अलावा राफेल सौदे में कई फायदे मिले हैं।विमान और उसकी कीमत को लेकर घोटाले का आरोप लगा रही कांग्रेस के दावों से इतर वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने डील को सही करार दिया है। उन्होंने कहा है कि राफेल अच्छा विमान है और जब यह उपमहाद्वीप में आएगा तो अत्यंत महत्वपूर्ण साबित होगा। धनोआ ने इसे गेम चेंजर बताते हुए डील को सरकार का बोल्ड फैसला करार दिया है। HAL पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि HAL के साथ सुखोई के निर्माण में हम पहले से ही तीन साल पीछे चल रहे हैं, जबकि जगुआर में 6 साल की देरी हुई है। उन्होंने ये भी बताया कि एलएसी और मिराज में 5 और 2 साल की देरी हो रही है।

4. संयुक्त राष्ट्री ने पीएम मोदी को 'चैंपियंस ऑफ अर्थ' के खिताब से किया सम्मानित

संयुक्तु राष्ट्र ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पर्यावरण के क्षेत्र में ऐतिहासिक कदम उठाने के लिए 'चैंपियंस ऑफ अर्थ' के खिताब से सम्मानित किया है। दिल्ली में हुए कार्यक्रम में यूएन चीफ एंटोनियो गुटेरेस ने प्रधानमंत्री को सम्मानित किया। इस मौके पर गुटेरेस ने कहा कि पीएम मोदी ने स्वीकार किया कि जयवायु परिर्वतन से हमें सीधे तौर पर खतरा है। वह जानते हैं कि इस आपदा से बचने के लिए हमें किस चीज की जरूरत है। ग्रीन इकॉनमी का आने वाले दशक में बड़ा योगदान होगा। पीएम मोदी ने इस अवसर पर कहा, 'ये सम्मान पर्यावरण की सुरक्षा के लिए भारत की सवा सौ करोड़ जनता की प्रतिबद्धता का है। चैंपियंस ऑफ द अर्थ अवॉर्ड, भारत की उस पुरातन परंपरा का सम्मान है, जिसने प्रकृति में परमात्मा को देखा है। जिसने सृष्टि के मूल में पंचतत्व के अधिष्ठान का आह्वान किया है।'

5. सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के विरोध में सड़कों पर उतरे लोग, कहा - अदालत का फैसला कुबूल नहीं

28 सितम्बर को सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में औरतों के प्रेवश के रास्ते भले ही खोल दिए लेकिन लोग देश की सबसे बड़ी अदालत के इस फैसले को कुबूल करने को तैयार नहीं हैं। कहा जाता है कि भगवान अयप्पा के ब्रह्मचारी होने की वजह से अब तक इस मंदिर में औरतों के जाने की मनाही थी। सुप्रीम कोर्ट ने इस मान्यता को ख़त्म करते हुए महिलाओं को मंदिर मे प्रवेश की इजाज़त दे दी है। लेकिन कुछ संगठन इससे सहमत नहीं हैं। इस फैसले के विरोध में विभिन्न हिंदू संगठनों के समर्थकों ने केरल के विभिन्न शहरों की सड़कों पर उतरकर सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। त्रावणकोर देवासम बोर्ड (टीडीबी) के पूर्व अध्यक्ष और पूर्व कांग्रेस विधायक प्रयर गोपालाकृष्णन के नेतृत्व में यह विरोध प्रदर्शन किया गया. उन्होंने कहा कि वे फैसले का विरोध करेंगे, चाहे कुछ भी हो।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it