Top
Home > राष्ट्रीय > जाने-माने इकोनॉमिक एनालिस्ट रुचिर शर्मा ने कहा पीएम मोदी के लिए बहुत कठिन है 2019 !

जाने-माने इकोनॉमिक एनालिस्ट रुचिर शर्मा ने कहा पीएम मोदी के लिए बहुत कठिन है 2019 !

 Special Coverage News |  25 Aug 2018 4:56 AM GMT  |  दिल्ली

जाने-माने इकोनॉमिक एनालिस्ट रुचिर शर्मा ने कहा पीएम मोदी के लिए बहुत कठिन है 2019 !
x

नई दिल्ली : 2019 के चुनावों में आठ से नौ महीने का समय रहा गया है और इस बीच जाने-माने इकोनॉमिक एनालिस्ट रुचिर शर्मा का कहना ही कि प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता घटी है . 2019 में मोदी के दोबारा चुने जाने की उम्मीद 2017 में 99% से घटकर मौजूदा समय में 50% रह गयी है . साल 2017 में प्रधानमंत्री मोदी के दोबारा 2019 में चुने जाने की संभावना 99 फीसदी तक थी.



न्यूज़ एजेंसी पीटीआई को दिए गए इंटरव्यू में न्यूयॉर्क के नामचीन कॉलमिस्ट में शुमार रुचिर शर्मा ने कहा , ''साल 2014 के चुनाव को देखें तो बीजेपी ने 31 फीसदी वोट शेयर हासिल किया क्योंकि विपक्ष काफी बिखरा हुआ था. पिछले चुनाव में सीट शेयर केंद्रित नहीं रह सका लेकिन वोट केंद्रित रहे. साल 2019 का चुनाव पिछले चुनाव के मुकाबले बिलकुल अलग और दिलचस्प होगा. अगर मुझे इस चुनाव पर पिछले साल यानी 2017 तक दाव लगाना होता तो मेरा मानना था कि मोदी के दोबारा चुने जाने की उम्मीद 99% थी. उत्तर प्रदेश के चुनाव नतीजों के बाद ये काफी कुछ बेहद साफ था. लेकिन अब ये रुझान बदलता लग रहा है.''



उन्होंने आगे कहा, '' मौजूदा समय में साल 2019 के चुनाव में बाजी 50:50 के अनुपात में नजर आ रही है. ये चुनाव काफी कुछ गठबंधन और उसकी एकता पर निर्भर करेंगे. पिछले आम चुनाव में विपक्ष जितना बिखरा हुआ था इस चुनाव में उतने ही साफ संकेत साथ आने के नजर आ रहे हैं.''



अर्थशास्त्री रुचिर शर्मा इस समय अपनी नई किताब " डेमोक्रेसी ऑन रोड " लिख रहे हैं और भारत सहित दुनिया की राजनीति पर पैनी नजर रखते है .साल 2019 के चुनावों से पहले उनकी नई किताब लांच होगी .यह किताब भारतीय लोकतंत्र और देश के कामों पर आधारित होगी .


दर्जनों चुनाव कवर कर चुके शर्मा ने साल 2004 के आम चुनाव याद करते हुए बताया कि तत्कालीन चुनाव में अटल बिहारी वाजपेयी और विपक्ष के नेता की पॉपुलैरिटी को लेकर उतना ही बड़ा अंतर था जितना मौजूदा समय में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता और विपक्ष के नेता की लोकप्रियता में है. लेकिन जब विपक्ष एक साथ आया तो भी यही सवाल रहा कि प्रधानमंत्री का चेहरा कौन होगा. इसके बाद देश को ' एक्सीडेंटल पीएम' मिले.



उत्तर प्रदेश के चुनाव को लेकर शर्मा ने कहा, '' 80 लोकसभा सीटों वाला ये राज्य भारत के चुनाव में काफी अहम हैसियत रखता है. अगर राज्य में सपा और बसपा एक साथ आते हैं तो ये 2019 में क्लीन स्वीप जैसी स्थिति बना सकते हैं. लेकिन अगर दोनों पार्टियां साथ नहीं आती हैं तो राज्य में बीजेपी को सफलता मिलेगी. मेरा मानना है कि राज्य में अब भी जाति चुनाव में सबसे बड़ी भूमिका निभाती है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it