Breaking News
Home > राष्ट्रीय > LIVE: SPG बिल राज्यसभा में भी पास,कांग्रेस के सांसदों ने राज्यसभा से वॉकआउट किया

LIVE: SPG बिल राज्यसभा में भी पास,कांग्रेस के सांसदों ने राज्यसभा से वॉकआउट किया

 Sujeet Kumar Gupta |  3 Dec 2019 10:48 AM GMT  |  नई दिल्ली

LIVE: SPG बिल राज्यसभा में भी पास,कांग्रेस के सांसदों ने राज्यसभा से वॉकआउट किया

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र का आज 12वां दिन है. सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) संसदीय दल की बैठक हुई. बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी, जितेंद्र सिंह और अर्जुन राम मेघवाल भी मौजूद रहे. वहीं लोकसभा में प्रश्नकाल के बाद प्याज की कीमत को लेकर कांग्रेस सांसदों ने हंगामा किया. कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि पीएम कहते हैं ना खाते हैं ना खाने दूंगा. उनके इस बयान के बाद बीजेपी हमलावर हो गई और पूनम महाजन ने अधीर रंजन को जवाब दिया. वहीं राज्यसभा में एसपीजी संशोधन बिल पेश कर दिया गया है और इसपर फिलहाल चर्चा हुई ,चर्चा के दौरान स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) संशोधन बिल राज्यसभा से पास हो गया है. ये बिल लोकसभा से पहले ही पास हो चुका है। बिल पर वोटिंग के दौरान कांग्रेस के सांसदों ने राज्यसभा से वॉकआउट किया।

अमित शाह ने कहा कि सरकार ने गांधी परिवार से सुरक्षा वापस नहीं ली है. सिर्फ बदलाव किया गया है. जो रक्षा मंत्री, गृह मंत्री और उपराष्ट्रपति और राष्ट्रपति को सुरक्षा मिली है, वही उनको भी मिली है. उन्होंने कहा कि कम्यूनिस्ट पार्टी को राजनीतिक बदले पर बोलने को कोई हक नहीं है. केरल में बीजेपी-आरएसस के 120 से ज्यादा कार्यकर्ताओं की हत्या हो जाती है. ये सिर्फ राजनीतिक बदले में होती है।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सबसे पहले इस बिल को लेकर के जो भ्रांतियां हैं वह मैं दूर करना चाहता हूं दो सदस्यों ने जो कहा कि इस बिल को दो परिवारों को ध्यान में रखकर के लाया गया यह हकीकत नहीं है. मैं थोड़ी और स्पष्टता से कहूं तो कहने का यह आशय था, कि गांधी परिवार के तीन सदस्यों को ध्यान में रखकर यह बिल लाया गया यह ठीक नहीं है. जो पुराना कानून था उस आधार पर गांधी परिवार की सेक्युरिटी असेस्मेंट के आधार पर उनकी एसपीजी सुरक्षा हटा ली गई है. इसके लिए उनको दूसरी सुरक्षा दी गई है. अमित शाह ने कहा कि विवेक तनखा ने जो सवाल उठाया सवाल ठीक नहीं है. एक्ट के अंदर चार बार परिवर्तन हुए हैं. यह पांचवा परिवर्तन है. यह पांचवा परिवर्तन किसी परिवार के कारण नहीं हुआ है. उसके पहले ही एसपीजी सिक्योरिटी की जगह सीआरपीएफ जेड प्लस एंबुलेंस को दिया गया है. यह सुरक्षा किसी भी व्यक्ति के लिए देश में सबसे हाईएस्ट सुरक्षा है. परंतु मैं यह जरूर कहना चाहूंगा कि इससे पहले 4 बार जो परिवर्तन किए गए थे वह एक परिवार को ध्यान में रखकर किए गए थे. गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सिर्फ गांधी परिवार की सुरक्षा ही नहीं देश की 130 करोड़ जनता की सुरक्षा की जिम्मेदारी मोदी सरकार की है. परंतु यह जिद करना कि मुझे एसपीजी चाहिए यह जिद मुझे समझ में नहीं आती है. एसपीजी के जो लोग हैं कोई विदेश से नहीं आते हैं. यहां कई सिक्योरिटी के लोग हैं SPG से ही आते हैं. क्यों एक परिवार की सुरक्षा को लेकर के मुद्दा उठाया जा रहा है.

अमित शाह ने कहा कि हम समानता में मानते हैं. इस देश में सिर्फ गांधी परिवार की सुरक्षा नहीं है. पूर्व पीएम चंद्रशेखर की सुरक्षा हटा ली गई. वीपी सिंह की सुरक्षा हटा ली गई थी. कांग्रेस के ही नरसिंहा रॉव की सुरक्षा हटा ली गई. मनमोहन सिंह की सुरक्षा जेड प्लस की गई. तब कांग्रेस ने कोई हाएतौबा नहीं मचाया. हम परिवार का विरोध नहीं करते. परिवारवाद का विरोध करते हैं. जब तक हमारे सीने में दम है परिवार को विरोध करते रहेंगे।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मैं साफ करना चाहता हूं कि गांधी परिवार को ध्यान में रखते हुए बिल नहीं लाया गया. बिल से गांधी परिवार का कोई संबंध नहीं है. मैं जरूर कहना चाहता हूं पिछले परिवर्तन एक परिवार को ध्यान में रखते हुए किए गए थे. अशोक सिंघल को एसपीजी नहीं मिली थी. एक दौर में उनको भी खतरा था. पीएम स्टेट ऑफ हेड होता है इसलिए उनके लिए ये सुरक्षा जरूरी है. जहां तक धमकी का सवाल क्यों सिर्फ गांधी परिवार. सबको सुरक्षा मिले. 130 करोड़ लोगों की जिम्मेदारी सरकार की है. एसपीजी सुरक्षा की जिद मुझे समझ नहीं आती।

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के घर पर एक घटना हुई. एक सूचना मिली कि राहुल गांधी घर पर मिलने आ रहे हैं. और राहुल गांधी, रॉबर्ट वाड्रा और सोनिया गांधी जब उनके गर पहुंचते हैं तो कोई जांच नहीं होती है. काले रंग की एक सफारी प्रियंका गांधी के घर में पहुंची. लेकिन इस गाड़ी में कांग्रेस की एक नेता थीं. जिस समय राहुल गांधी आने वाले थी उसी समय ही वे पहुंचीं. ये इत्तेफाक था. हमने जांच का आदेश दे दिया है.


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top