Top
Home > राष्ट्रीय > #MeToo: एक और महिला पत्रकार ने अकबर पर लगाए आरोप, अंडरवियर में आए सामने-कई बार किया Kiss

#MeToo: एक और महिला पत्रकार ने अकबर पर लगाए आरोप, 'अंडरवियर में आए सामने-कई बार किया Kiss

तुषिता के अनुसार, ‘घंटी बजाने के बाद कमरे का दरवाजा खुला. जैसे ही दरवाजा खुला वह अवाक रह गईं. एमजे अकबर सामने अंडरवियर पहने खड़े थे?

 Special Coverage News |  16 Oct 2018 12:50 PM GMT  |  दिल्ली

#MeToo: एक और महिला पत्रकार ने अकबर पर लगाए आरोप, अंडरवियर में आए सामने-कई बार किया Kiss
x
MJ Akbar, File Photo

नई दिल्ली : देश में पिछले कुछ समय से मीटू अभियान बहुत तूल पकड़ रहा है. देश के कई बड़े-बड़े नेताओं और अन्य हस्तियों का नाम इस अभियान के तहत सामने आ रहा है, लेकिन इन सभी में से इस अभियान की सबसे ज्यादा गाज केंद्र सरकार के विदेश राज्‍य मंत्री एमजे अकबर पर गिरी है. उनपर हाल ही में एक अन्य महिला ने भी यौन शोषण का आरोप लगाया है. अब तक करीब 15 वरिष्ठ महिला पत्रकार उन पर आरोप लगा चुकी हैं. पत्रकार तुषिता पटेल ने स्क्रॉल के लिए लिखे लेख में कहा है कि अकबर ने उन्हें कई बार किस किया. अकबर की ओर से पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करने के बाद तुषिता ने ये आरोप लगाए हैं और कहा है कि महिलाएं कोर्ट में भी उनका सामना कर लेंगी.

तुषिता ने एक वेबसाइट पर लंबा लेख लिखा है. तुषिता के अनुसार, '1992 में वह टेलीग्राफ, कोलकाता में ट्रेनी पत्रकार थीं. अकबर यहां कभी-कभी आते थे. उनसे किसी ने पूछा कि क्या एमजे अकबर से मिलना चाहोगी. मैंने तैयार हो गई. तब अकबर से कौन नहीं मिलना चाहता था? इसके बाद अकबर खुद मेरे घर फोन कर मुझे होटल बुलाया. वह होटल पहुंचीं.' तुषिता के अनुसार, 'घंटी बजाने के बाद कमरे का दरवाजा खुला. जैसे ही दरवाजा खुला वह अवाक रह गईं. एमजे अकबर सामने अंडरवियर पहने खड़े थे. क्या 22 साल कि किसी लड़की का स्वागत करने का ये तरीका नैतिक था.'

तुषिता ने दूसरी घटना का जिक्र किया. उन्होंने लिखा कि 1993 में वह हैदराबाद में 'डेक्कन क्रॉनिकल' अखबार में सीनियर सब एडिटर के तौर पर ज्वाइन किया. एमजे अकबर अखबार के एडिटर-इन-चीफ थे. एक बार अकबर हैदराबाद आए और मुझे पेग डिस्कशन के लिए होटल बुलाया. मुझे कुछ पेज पूरे करने थे, इसलिए होटल पहुंचते-पहुंचते मुझे देर हो गई. जब मैं होटल के कमरे में पहुंची तो अकबर ने मुझे गलत तरीके से टच किया. किस करने लगे. इसके बाद मैं उठी और दौड़ कर सड़क पर पहुंच गई. मुझे अकबर की मूंछ के कड़े बाल और चाय की महक आज भी यादों में चुभते हैं. मैंने ऑटो लिया और उसमें बैठ कर रोने लगी.

इसके बाद अगले दिन ऑफिस पहुंचने पर अकबर ने फिर से कांफ्रेंस रूम में बुलाया और आपत्ति जनक हरकतें की. वह अकबर को लगातार नजरअंदाज करने का प्रयास कर रही थीं. इसके बाद भी अकबर ने एक अन्य दिन मुझे फिर से बुलाकर कहा कि कहां गायब हो गईं थीं. तुमसे पेज को लेकर बात करनी थी. इसके बाद अकबर ने फिर से आपत्ति जनक हरकतें की. तुषिता ने लिखा कि 'वह बेहद आहत थीं. शर्मिंदगी थी. आंसू आ रहे थे. ऐसे हाल में वह कांफ्रेस रूम में रहीं'. तुषिता ने लिखा कि अब अकबर को झूठ बोलना बंद कर देना चाहिए. अकबर की धमकियां हमें डरा नहीं सकती हैं.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it