Top
Begin typing your search...

दो अलग-अलग विचारधारा के संगठनों के चीफ़ मदनी-भागवत की हुई मुलाक़ात से हलचल

हाँ तक हज़रत मौलाना की बात है जबसे हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी ने जमीअत की कमान सँभाली है तब से जमीअत की कारगुज़ारी में ज़मीन आसमान का फर्ख महसूस किया जा सकता है ऐसा लोगों का मानना है।

दो अलग-अलग विचारधारा के संगठनों के चीफ़ मदनी-भागवत की हुई मुलाक़ात से हलचल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

राज्य मुख्यालय लखनऊ। आरएसएस चीफ मोहन भागवत और मुसलमानों के सबसे बड़े संगठन जमीअत उलेमा-ए-हिन्द के अध्यक्ष हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी के बीच RSS दिल्ली के मुख्यालय में हुई मुलाक़ात उनके लिए गलत है जो साम्प्रदायिकता का चोला पहन माहौल ख़राब करने का प्रयास करते रहते है उनके लिए ये मुलाक़ात निराशाजनक बतायी जा रही है और जो इस मुल्क में अमन चाहते है उनके लिए ये मुलाक़ात अच्छी पहल मानी जा रही है यह मुलाक़ात तक़रीबन एक घंटा तीस मिनट चली।

हमारे सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुलाक़ात का समय मात्र तीस मिनट का था लेकिन मुलाक़ात आरएसएस के बदल रहे नज़रिये के मुताबिक और जमीअत के हमेशा के नज़रिये हिन्दु-मुस्लिम एकता के मुताबिक ख़ुशगवार माहौल में चलती रही जिसके बाद यह मुलाक़ात लंबी हो गई इस महत्वपूर्ण चर्चा में मात्र तीन लोग शामिल रहे मोहन भागवत , हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी और भाजपा के ट्रेनिंग कैंप के प्रभारी सुनील पाण्डेय।भागवत से मुलाक़ात कर बाहर निकल रहे मौलाना से रामलाल की मुलाक़ात हुई इस मुलाक़ात में रामलाल का कोई वास्ता नही रहा।मुल्क के हालात पर गंभीर रूप से चर्चा हुई इस मुलाक़ात के बाद इस्लामिक हल्के में बहुत हलचल दिखी जा रही है।

क्योंकि जमीअत उलेमा-ए-हिन्द मुसलमानों का आजादी से पहले ही नेतृत्व करता चला आ रहा है जमीअत की स्थापना से लेकर आज तक जमीअत मुल्क की एकता के लिए काम करती चली आ रही है बँटवारे के टाइम भारत में रहे मुसलमान जमीअत की वजह से ही भारत में रहे थे आज के हालात की वजह से जमीअत पर इस बात का भी दबाव देखा व समझा जा रहा है कि हम आपकी वजह से यहाँ रहे और देखो हमारे साथ क्या हो रहा है ये प्रेशर भी जमीअत पर देखा जा रहा है इस मुलाक़ात को कराने में भाजपा के पूरे भारत के ट्रेनिंग कैंपों के प्रभारी और पहले आरएसएस में बड़े जिम्मेदार पदों पर आसीन रहे आरएसएस के सुनील पाण्डेय ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की सुनील पाण्डेय ने हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी तक पहुँचने के लिए देवबन्द के पंडित अश्वनी मुदगल एडवोकेट का इस्तेमाल किया जिनका वहाँ के अधिकतर मुस्लिम घरों काफ़ी अच्छी घुसपैठ समझी जाती है और संघ में भी काफ़ी मजबूत पकड़ है।




उतराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री अब महाराष्ट्र के राज्यपाल नियुक्त किए गए भगत सिंह कोश्यारी के नज़दीकी पंडित अश्वनी मुदगल एडवोकेट ने जमीअत उलेमा-ए-हिन्द के अध्यक्ष हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी तक आरएसएस का संदेश पहुँचाने में सुनील पाण्डेय की मदद की कि आरएसएस के चीफ मोहन भागवत आपसे मिलना चाहते है यह सिलसिला तक़रीबन ढाई साल से चल रहा था जो अब जाकर संभव हो सका है।ढाई साल पहले देवबन्द में सुनील पाण्डेय की मुलाक़ात हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी से हुई थी इस मुलाक़ात की रूप रेखा तभी से तैयार हो गई थी।

मौलाना अरशद मदनी की मोहन भागवत से मुलाक़ात को सकारात्मक रूप से देखा जा रहा है क्योंकि मुल्क के हालात ठीक नही है इस लिए सुलह की कोशिश आख़री उम्मीद तक करनी चाहिए और मौलाना अरशद मदनी की नियत पर कम से कम शक बिलकुल नही किया जा सकता है, हाँ अगर ये मुलाक़ात अन्य कोई और मौलाना करते तो उनपर हज़ार बार शक होता ,हर किसी पर एक हिसाब से यक़ीन नही किया जा सकता है जहाँ तक हज़रत मौलाना की बात है जबसे हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी ने जमीअत की कमान सँभाली है तब से जमीअत की कारगुज़ारी में ज़मीन आसमान का फर्ख महसूस किया जा सकता है ऐसा लोगों का मानना है।

इनसे पहले की जमीअत की पहचान साम्प्रदायिक दंगों तक सीमित था बाक़ी कुछ नही लेकिन आज की जमीअत पूरी मज़बूती से काम कर रही है यह एक कड़वा सच है जिसे हमें मानना ही पड़ेगा हर किसी पर एतबार नही किया जा सकता है हज़रत मौलाना सैयद अरशद मदनी के द्वारा किए जा रहे मुल्क और मिल्लत के लिए तमाम कामो और कोशिशों के बाद उनकी नियत पर शक की गुंजाइश नही के बराबर है , जिस नज़रिये से ये मुलाक़ात बताई जा रही है यह एक अच्छी कोशिश है मौलाना को उनकी कोशिशों में उन्हें कामयाबी मिले ऐसी संभावनाएँ तलाशी जा रही है।

Special Coverage News
Next Story
Share it