Home > राष्ट्रीय > भारत-जर्मनी में 11 क्षेत्रों में करार, मोदी बोले- आतंकवाद से लड़ाई में सहयोग को मजबूती देंगे

भारत-जर्मनी में 11 क्षेत्रों में करार, मोदी बोले- आतंकवाद से लड़ाई में सहयोग को मजबूती देंगे

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- दुनिया के बड़े और गंभीर मामलों पर दोनों देशों के विचार एक

 Special Coverage News |  1 Nov 2019 9:46 AM GMT  |  दिल्ली

भारत-जर्मनी में 11 क्षेत्रों में करार, मोदी बोले- आतंकवाद से लड़ाई में सहयोग को मजबूती देंगे

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने शुक्रवार को हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ 5वीं भारत-जर्मनी इंटर-गवर्मेंट कंसल्टेशन (आईजीसी) में हिस्सा लिया। इसमें भारत और जर्मनी के बीच पांच क्षेत्रों में साझा सहयोग के समझौतों पर दस्तखत हुए। इनमें अंतरिक्ष, उड्डयन, नौसैन्य तकनीक, चिकित्सा और शिक्षा समेत 11 क्षेत्रों में सहयोग की सहमति बनी।

चांसलर मर्केल ने कहा- हम चाहते हैं कि स्थिर विकास और जलवायु सुरक्षा के लिए दोनों देश साथ में गंभीरता से लंबे समय तक काम करें। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- हम आतंक के खिलाफ लड़ाई में अपने द्विपक्षीय रिश्तों और सहयोग को और भी ज्यादा मजबूत करेंगे।

दोनों देशों के रिश्ते लोकतांत्रिक व्यवस्था पर आधारित: मोदी

मोदी ने कहा- हम दोनों देशों के रिश्ते लोकतांत्रिक और कानून पर आधारित हैं। यही कारण है कि दुनिया के बड़े और गंभीर मामलों पर हमारे विचार एक से हैं। उन्होंने कहा- हम आभारी हैं कि जर्मनी ने निर्यात नियंत्रण क्षेत्र में भारत की सदस्यता का समर्थन किया है। दोनों देश इन प्रयासों को जारी रखेंगे ताकि आपसी सहयोग बना रहे।

हमारी इच्छा है ज्यादा भारतीय छात्र जर्मनी आए: मर्केल

इससे पहले मर्केल ने कहा- जर्मनी में 20 हजार भारतीय छात्र पढ़ रहे हैं। हमारी इच्छा है कि यह संख्या और बढ़े। हम चाहते हैं कि वोकेशनल ट्रेनिंग के लिए टीचर्स एक्सचेंज प्रोग्राम भी शुरू हो।वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- भारत और जर्मनी का फोकस नई और एडवांस तकनीक, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, स्किल्स, एजुकेशन और सायबर सिक्योरिटी जैसे मामलों पर सहयोग बढ़ाने पर है।

हैदराबाद हाउस में बैठक हुई

इससे पहले भारत और जर्मनी के अफसरों के बीच डेलिगेशन स्तर की वार्ता हुई। राष्ट्रपति भवन में चांसलर मर्केल का औपचारिक स्वागत हुआ। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद उनसे मिलने पहुंचे। मर्केल ने राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी।

दो दिनों के भारत दौरे पर हैं मर्केल

यहां भारत-जर्मनी संंबंधों की अहमियत पर मर्केल ने कहा- दोनों देशों के बीच काफी करीबी रिश्ता है। हमारे मन में इस देश की विविधता के प्रति गहरा सम्मान है। मर्केल ने बताया कि वे और प्रधानमंत्री मोदी बैठक के दौरान कई समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे। मर्केल दो दिनों के भारत दौरे पर हैं। इससे पहले मर्केल गुरुवार देर रात ही दिल्ली पहुंचीं। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने उनका और जर्मन डेलिगेशन का स्वागत किया।

ऑटोमोटिव कंपनी का दौरा करने गुड़गांव जाएंगी मर्केल

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार के मुताबिक, मोदी और मर्केल के बीच यह एक साल में पांचवीं मुलाकात है। आईजीसी के दौरान दोनों पारंपरिक सेक्टरों (ऊर्जा, कौशल विकास और परिवहन) में सहयोग पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और नवीकरणीय ऊर्जा भी चर्चा का विषय होंगे। मर्केल शनिवार को भारत और जर्मनी के बिजनेस डेलिगेशन के बीच मीटिंग का हिस्सा होंगी। इसके अलावा वे हरियाणा के गुड़गांव स्थित मानेसर में कॉन्टिनेंटल ऑटोमोटिव कम्पोनेंट्स प्राइवेट लिमिटेड का भी दौरा करेंगी। जर्मनी लौटने से पहले मर्केल दिल्ली के द्वारका सेक्टर 21 मेट्रो स्टेशन जाएंगी।

मर्केल को राष्ट्रगान के दौरान खड़े होने से छूट

हाल ही में जर्मन सरकार ने भारत से अपील की थी कि मर्केल को मेडिकल कारणों से राष्ट्रगान के दौरान खड़े होने से छूट दी जाए। पिछले कुछ कार्यक्रमों में मर्केल को सपोर्ट के बिना खड़े होने में दिक्कत का सामना करते देखा गया। इसी को लेकर उनके कार्यालय ने छूट की अपील की। इस पर भारत सरकार ने सहमति जता दी है। यानी मर्केल को राष्ट्रगान में खड़े होने के प्रावधानों से छूट दी जाएगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top