Home > मन की बात LIVE : भारत ने हमेशा विश्व भर में शांति का संदेश दिया है

मन की बात LIVE : भारत ने हमेशा विश्व भर में शांति का संदेश दिया है

 शिव कुमार मिश्र |  2017-10-29 06:14:32.0

मन की बात LIVE : भारत ने हमेशा विश्व भर में शांति का संदेश दिया है

प्रधानमंत्री मंत्री नरेंद्र मोदी ऑल इंडिया रेडियो पर 37वीं बार 'मन की बात' कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने भारतीय जवानों के साथ-साथ खादी पर भी बात की. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के विभिन्न अभियानों में भारत की हिस्सेदारी की बात की.

उन्होंने बताया कि कैसे भारत की सेना अलग-अलग देशों के लोगों की सुरक्षा में अपनी भूमिका निभा रहे हैं. भारत पहला देश था, जिसने लाइबेरिया में पहली बार राहत दल भेजा था. उन्होंने कहा कि भारत ने हमेशा शांति का संदेश दिया है.

सिस्टर निवेदिता की 150वीं जयंती है कल (30 अक्तूबर को). गरीबों की सेवा के लिए समर्पित किया. भगिनी निवेदिता ने भारत में राष्ट्रीय चेतना जगाने का काम किया. सनातन धर्म के कार्यों का प्रचार और प्रसार किया.
सुब्रमण्यम भारती और उनके कार्यों का भी जिक्र किया. उनकी प्रेरणा भगिनी निवेदिता थीं.
जगदीश चंद्र बोस के रिसर्च एवं प्रकाशन में योगदान
'मन की बात' में पीएम मोदी ने सबसे पहले देशवासियों को छठ पर्व की शुभकामनाएं दी. विश्व में शांति स्थापना में भारत के योगदान पर बात की. उन्होंने बताया कि भारत अपनी धरती पर शांति को बढ़ावा देने के साथ-साथ दुनिया के 85 देशों को भी शांति का पाठ पढ़ा रहा है.
महात्मा गांधी और गौतम बुद्ध की इस भूमि से हमारे बहादुर शांति-रक्षकों ने विश्वभर में शांति और सद्भाव का संदेश पहुँचाया है
आज जब हम अपने बहादुर UN Peacekeepers को याद करते हैं, तो परमवीर चक्र से सम्मानित कैप्टन गुरबचन सिंह सलारिया को कौन भूल सकता है.
पीएम मोदी ने कहा कि 'मन की बात' का यह असर हुआ कि इस साल धनतेरस पर दिल्ली के खादी शोरूम में 1 करोड़ से ज्यादा की बिक्री हुई. यह खादी फॉर नेशन से खादी फॉर ट्रांसफॉर्मेशन का समय है.
छठ पर्व की महिमा का बखान करते हुए मोदी ने कहा कि यह पर्व प्रकृति संरक्षण का पर्व है. इसमें छठ से घाटों की सफाई करते हैं. यह उगते और डूबते सूर्य की वंदना का पर्व है. मोदी ने सिस्टर निवेदिता के बारे में भी बात की. उन्होंने बताया कि निवेदिता ने भारतीय संस्कृति के गौरव को दोबारा स्थापित किया. उन्होंने राष्ट्रीय चेतना को जागृत कर लोगों को एकजुट करने का काम किया.
31 अक्तूबर को इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि है. इसी दिन वे इस दुनिया को छोड़ करके चली गईं.
कोलकाता में भयानक प्लेग फैला, तो सिस्टर निवेदिता ने नालियों की सफाई में जुट गयीं. लोगों ने भी उनका साथ दिया, जिसकी वजह से प्लेग का प्रकोप शीघ्र समाप्त हो गया.
एक नागरिक ने पूछा कि 14 नवंबर को देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की जयंती पर विश्व डायबिटीज दिवस भी है. बच्चों में हो रही है डायबिटीज की बीमारी. इस दिशा में सरकार क्या कर रही है?
प्रधानमंत्री ने इस सवाल के जवाब में कहा कि बच्चों में मधुमेह रोग से वह चिंतित और हैरान हैं. उन्होंने कहा कि पहले मधुमेह को राजरोग कहा जाता था. यह बीमारी उन लोगों को होती थी, जो ऐश-ओ-आराम की जिंदगी जीते थे. लेकिन आज इस बीमारी को लाईफस्टाईल डिजॉर्डर कहा जाता है.
समाज और परिवार को इस ओर ध्यान देने की जरूरत है. छोटी-छोटी चीजों को नियमित रूप से अपनी आदत में शुमार कर लें, तो व्यवस्था बदल जायेगी. परिवार जन जागरूक हों. प्रयास करें कि बच्चे खुले मैदानों में खेलने की आदत बनायें. संभव हो, तो बड़े लोग भी बच्चों के साथ खुले में खेलें. बच्चों में सीढ़ियां चढ़ने की आदत बनायें. डिनर के बाद पूरा परिवार वॉक करे. योग करें. विशेषकर युवाओं को लाईफ स्टाईल डिजॉर्डर को दूर करने में मदद करेगा. स्कूल से पहले 30 मिनट का योग हर बीमारी से दूर बचाता है. यह सहज है, सरल है और सर्वसुलभ है. आयुर्वेद और योग को जीवन का हिस्सा बनायें.
सरदार पटेल ने देश के एकीकरण की नींव रखी. रदार पटेल ने भारत को एक सूत्र में पिरोने की बागडोर संभाली,भारतीयों को एक राष्ट्र - एक संविधान की छत्रछाया में लाने में सफल रहे.आपसी सद्भाव के इस उत्सव रन फॉर यूनिटी में आप भी भाग लें.


Tags:    
Share it
Top