Home > राष्ट्रीय > मनी लॉन्ड्रिंग केस: ED दफ्तर में रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ जारी, बोले- न लंदन में घर और न भंडारी से कोई रिश्ता

मनी लॉन्ड्रिंग केस: ED दफ्तर में रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ जारी, बोले- न लंदन में घर और न भंडारी से कोई रिश्ता

मनी लॉन्ड्रिंग केस के सिलसिले में कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा से ईडी की पूछताछ चल रही है।

 Special Coverage News |  6 Feb 2019 12:35 PM GMT  |  दिल्ली

मनी लॉन्ड्रिंग केस: ED दफ्तर में रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ जारी, बोले- न लंदन में घर और न भंडारी से कोई रिश्ता

नई दिल्ली : मनी लॉन्ड्रिंग केस के सिलसिले में कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा से ईडी की पूछताछ चल रही है। इससे पहले, वाड्रा के साथ उनकी पत्नी प्रियंका वाड्रा भी ईडी दफ्तर पहुंचीं, हालांकि वह गेट से ही लौट गईं। ईडी की एक टीम वाड्रा का बयान दर्ज कर रही है। उनसे पूछताछ करने वाली टीम में ईडी के जॉइंट डायरेक्टर, डेप्युटी डायरेक्टर और 5 अन्य अधिकारी शामिल हैं।

पूछताछ के दौरान रॉबर्ट वाड्रा ने संजय भंडारी और उनके चचेरे भाई शिखर चड्ढा के साथ किसी भी व्यापारिक संबंध से इनकार किया। उन्होंने कहा कि मैं मनोज अरोरा को जानता हूं। वे मेरे कर्मचारी थे, लेकिन उन्होंने अरोरा के ईमेल लिखने से इंकार किया। इसके साथ ही वाड्रा ने कहा कि मेरे पास कोई प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लंदन में संपत्ति नहीं है।

वाड्रा करीब 3 बजकर 47 मिनट पर ईडी के दफ्तर में दाखिल हुए। उनके वकीलों का एक दल पहले ही वहां पहुंच चुका था। यह पहला मौका है जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा वाड्रा संदिग्ध वित्तीय लेन-देन के आपराधिक आरोपों के सिलसिले में किसी जांच एजेंसी के समक्ष पेश हुए हैं।



वाड्रा की पत्नी प्रियंका वाड्रा सफेद टोयोटा लैंड क्रूजर गाड़ी में उनके साथ थीं और उनके पीछे एसपीजी के सुरक्षाकर्मियों की गाड़ियां थीं। उन्होंने वाड्रा को मध्य दिल्ली के जामनगर हाउस स्थित एजेंसी के दफ्तर के सामने छोड़ा और वहां से फौरन अपनी गाड़ियों के काफिले के साथ रवाना हो गईं। अपने पति से ईडी की पूछताछ के बारे में पूछे जाने पर प्रियंका ने कहा कि वह अपने परिवार के साथ खड़ी हैं।

क्या है मामला

रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ चल रहा केस लंदन के 12 ब्रायंस्टन स्क्वायर पर स्थित एक संपत्ति की खरीद में मनी लॉन्ड्रिंग (धन शोधन) के आरोपों से जुड़ा है। यह प्रॉपर्टी 19 लाख पाउंड में खरीदी गई थी और इसका मालिकाना रॉबर्ट वाड्रा के पास है। जांच एजेंसी ने अदालत को बताया था कि भगोड़े हथियार व्यापारी संजय भंडारी के खिलाफ आयकर विभाग काला धन अधिनियम एवं कर कानून के तहत जांच कर रहा है। इसी दौरान मनोज अरोड़ा की भूमिका सामने आई, जिसके आधार पर मनी लॉन्ड्र‍िंग का केस दर्ज किया गया।

आरोप ये है कि लंदन स्थित इस संपत्ति को 19 लाख पाउंड में संजय भंडारी ने खरीदा था और 2010 में इसे इतनी ही राशि में बेच दिया गया। जबकि उसी मरम्मत, साजसज्जा पर करीब 65,900 पाउंड खर्च किया गया था, बावजूद इसके खरीद दाम में ही प्रॉपर्टी रॉबर्ट वाड्रा को बेची गई।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top