Top
Begin typing your search...

Jio की बजह से Idea को झटका, ₹327.7 करोड़ का हुआ घाटा

Jio की बजह से Idea को झटका, ₹327.7 करोड़ का हुआ घाटा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
नई दिल्ली : टेलिकॉम सेक्टर में जियो की एंट्री ने आइडिया सेल्युलर को भारी चपत लगाई है। आइडिया सेल्युलर ने 31 मार्च 2017 को समाप्त हुई तिमाही में 325.6 करोड़ रुपए के समेकित नुकसान की बात कही है। आपको बता दें कि कंपनी ने बीते वर्ष की समान अवधि के दौरान 449.2 करोड़ का मुनाफा दर्ज किया था।

कंपनी ने एक बयान में बताया कि उसे लगातार दूसरी तिमाही में घाटा हुआ है। इससे पहले अक्टूबर-दिसंबर 2016 तिमाही में भी कंपनी को 383.87 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध घाटा हुआ था। जबकि इससे पहले अक्टूबर-दिसंबर 2015 में उसे 659.35 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। समीक्षावधि में कंपनी का कुल राजस्व 13.7 प्रतिशत घटकर 8,194.5 करोड़ रुपये रहा जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 9,500.7 करोड़ रुपये था।

तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में आइडिया सेल्युलर की अन्य आय 43.7 करोड़ रुपये से बढ़कर 68 करोड़ रुपये रही है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में आइडिया सेल्युलर का प्रशासनिक और अन्य खर्च 322.6 करोड़ रुपये से घटकर 178.3 करोड़ रुपये रहा है।

तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में आइडिया सेल्युलर की डाटा सेगमेंट में औसतन प्रति ग्राहक आय 111 रुपये से घटकर 110 रुपये रही है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में आइडिया सेल्युलर की वॉयस सेगमेंट में औसतन प्रति ग्राहक आय 157 रुपये से घटकर 142 रुपये रही है।

तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में आइडिया सेल्युलर की वॉयस सेगमेंट में प्रति मिनट आय 29.6 पैसे से घटकर 25.9 पैसे रही है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में आइडिया सेल्युलर का वॉयस सेगमेंट में वॉल्यूम 209.8 अरब मिनट से बढ़कर 231.4 अरब मिनट रहा है।

आइडिया सेल्युलर के मुताबिक साल 2016 में ग्राहकों के लिहाज से बाजार हिस्सेदारी बढ़कर 19 फीसदी रही है। वित्त वर्ष 2018 में विस्तार योजनाओं पर 6000 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है।
Arun Mishra
Next Story
Share it