Home > माल्‍या के गारंटर किसान ने बैंक पर ठोका 10 लाख का मानहानि, शाखा प्रबंधक पर गिरी गाज

माल्‍या के गारंटर किसान ने बैंक पर ठोका 10 लाख का मानहानि, शाखा प्रबंधक पर गिरी गाज

 Special Coverage news |  2016-06-12 08:45:00.0  |  उत्तर प्रदेश

माल्‍या के गारंटर किसान ने बैंक पर ठोका 10 लाख का मानहानि, शाखा प्रबंधक पर गिरी गाज

यूपी: विजय माल्या के गारंटर बताए गए किसान मनमोहन सिंह ने पीलीभीत बैंक ऑफ बड़ौदा को 10 लाख का मानहानि का नोटिस भेजा है। इसके भुगतान के लिए बैंक को 30 दिन का वक्त दिया है। साथ ही मनमोहन ने पूछा है कि कंपनी का गारंटर उसे कैसे बनाया गया और किसके ऑर्डर से हटा दिया गया।

मनमोहन सिंह अपनी बेटी की शादी की तैयारी में जुटे हुए थे और उन्होंने इसके लिए रकम जुटाकर अपने खाते में जमा की थी। अचानक बैंक से सूचना मिलने पर किसान को तब झटका लगा जब उन्हें बताया गया कि उनका खाता सीज कर दिया गया है।

मनमोहन को ये भी नहीं पता था कि विजय माल्या कौन हैं और किंगफिशर क्या है। उसका कहना है कि वह कभी मुंबई भी नहीं गया। दूसरी ओर, बैंक ऑफ बड़ौदा के मैनेजर का कहना था कि उनके पास मुंबई के रीजनल ऑफिस से अकाउंट सीज करने के ऑर्डर आए थे।

सरदार मनमोहन सिंह पीलीभीत के बिलसंडा गांव का रहने वाला है। उसके पास 8 एकड़ जमीन और दो बैंक अकाउंट हैं। मनमोहन का सेविंग अकाउंट (नंबर- 01/4637) और किसान क्रेडिट अकाउंट (नंबर- 01/3881) हैं।
अकाउंट सीज होने से उसे गवर्नमेंट स्कीम का फायदा नहीं मिल पाया। उसे फसल भी बहुत सस्ते दामों पर बेचनी पड़ी।

जैसे ही किसान के कथित माल्या कनेक्शन की खबर मीडिया में आई, बैंक एक्टिव हो गया। नरीमन प्वाइंट से बैंक मैनेजर को एक मेल आया। इसमें कहा गया कि किसान का गलत अकाउंट सीज कर दिया गया है। उसके सेविंग अकाउंट को सीज करने का ऑर्डर था, लेकिन केकेसी (किसान क्रेडिट कार्ड) और सेविंग, दोनों अकाउंट सीज क्यों कर दिए गए? मेल में इन दोनों ही अकाउंट्स को फौरन रिलीज करने की बात भी कही गई थी। इसके बाद दोनों अकाउंट दोबारा से एक्टिव कर दिए गए थे।

Tags:    
Share it
Top