Home > रथयात्रा का देशभर में हर्षोल्लास, मोदी ने देशवासियों को दी बधाई

रथयात्रा का देशभर में हर्षोल्लास, मोदी ने देशवासियों को दी बधाई

 Special Coverage news |  2016-07-06 08:45:34.0  |  उड़ीसा

रथयात्रा का देशभर में हर्षोल्लास, मोदी ने देशवासियों को दी बधाई

उड़ीसा: आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वितीया तिथि को ओडिशा के पुरी नगर में होने वाली भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा अाज से शुरु हो रही है। रथयात्रा भारत ही नहीं विश्व के सबसे विशाल और महत्वपूर्ण धार्मिक उत्सवों में से एक है, जिसमें भाग लेने के लिए पूरी दुनिया से लाखों श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं।

इस साल यह रथयात्रा 6 जुलाई यानी आज से आरम्भ हो रही है। इस धार्मिक यात्रा में भाग लेने आये श्रद्धालुओं में भारी उत्साह देखा जा रहा है। सुबह भगवान जगन्नाथ की यात्रा निकाली गई। यात्रा में काफी सख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। भगवान जगन्नाथ, बलभद्र अौर सुभद्रा के जयकारे लगाते हुए लोग रथ खींच रहे थे।

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विट कर देशवासियों को रथयात्रा की बधाई दी। उन्होंने कहा कि भगवान जगन्नाथ की कृपा हम सब पर बनीं रहे। भगवान जन्नाथ के अाशीर्वाद से गांव, गरीब, किसान का विकास हो अौर देश नई ऊंचाई पर पहुंचे।

पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। वर्त्तमान मंदिर 800 वर्ष से अधिक प्राचीन है, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण, जगन्नाथ रूप में विराजित है। साथ ही यहां उनके बड़े भाई बलभद्र और उनकी बहन देवी सुभद्रा की पूजा की जाती है।

रथयात्रा के लिए बलराम, श्रीकृष्ण और देवी सुभद्रा के लिए तीन अलग-अलग रथ निर्मित किए जाते हैं। रथयात्रा में सबसे आगे बलरामजी का रथ, उसके बाद बीच में देवी सुभद्रा का रथ और सबसे पीछे भगवान जगन्नाथ श्रीकृष्ण का रथ होता है। इसे उनके रंग और ऊंचाई से पहचाना जाता है।

बलरामजी के रथ को 'तालध्वज' कहते हैं, जिसका रंग लाल और हरा होता है। देवी सुभद्रा के रथ को 'दर्पदलन' या 'पद्म रथ' कहा जाता है, जो काले या नीले और लाल रंग का होता है, जबकि भगवान जगन्नाथ के रथ को ' नंदीघोष' या 'गरुड़ध्वज' कहते हैं। इसका रंग लाल और पीला होता है। भगवान जगन्नाथ का नंदीघोष रथ 45.6 फीट ऊंचा, बलरामजी का तालध्वज रथ 45 फीट ऊंचा और देवी सुभद्रा का दर्पदलन रथ 44.6 फीट ऊंचा होता है।

ये सभी रथ नीम की पवित्र और परिपक्व लकड़ियों से बनाये जाते है, जिसे 'दारु' कहते हैं। इसके लिए नीम के स्वस्थ और शुभ पेड़ की पहचान की जाती है, जिसके लिए जगन्नाथ मंदिर एक खास समिति का गठन करती है।

इन रथों के निर्माण में किसी भी प्रकार के कील या कांटे या अन्य किसी धातु का प्रयोग नहीं होता है। रथों के लिए काष्ठ का चयन बसंत पंचमी के दिन से शुरू होता है और उनका निर्माण अक्षय तृतीया से प्रारम्भ होता है।

Tags:    
Share it
Top