Home > ट्रंप के सामने नवाज शरीफ की बेइज्जती, पाक में मची हाय-तौबा!

ट्रंप के सामने नवाज शरीफ की बेइज्जती, पाक में मची हाय-तौबा!

इस्लामिक समिट’ में अलग-थलग नवाज..?

 Arun Mishra |  2017-05-23 06:26:33.0  |  New Delhi

ट्रंप के सामने नवाज शरीफ की बेइज्जती, पाक में मची हाय-तौबा!

इस्लामाबादः अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हाल ही में सऊदी अरब के दौरे पर थे, इस दौरान इस्लामिक शिखर सम्मेलन के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ भी मौजूद रहे। लेकिन कार्यक्रम के दौरान हुई नवाज शरीफ की अनदेखी से उनके देश पाकिस्तान में इसे ट्रंप के सामने 'बेइज्जती' करार दिया जा रहा है, और शरीफ की काफी आलोचना भी हो रही है।

पाकिस्तान की स्थानीय मीडिया में कहा जा रहा है, कि इस्लामिक सम्मेलन के दौरान नवाज शरीफ अलग-थलग पड़ गए, आतंकवाद के मुद्दे पर उन्हें अपनी राय नहीं रखने दी गई। दरअसल, इस्लामिक सम्मेलन के दौरान अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समेत कई अन्य नेताओं ने अपने विचार रखे। इसके लिए नवाज शरीफ ने भी तैयारी की थी, कहा जा रहा है कि शरीफ ने अपनी फ्लाइट में यात्रा के दौरान करीब अढाई घंटे से मेहनत कर स्पीच तैयार की थी, . फिर भी नवाज को वहां बोलने का अवसर नहीं मिल सका। वहीं ट्रंप ने नवाज शरीफ के सामने ही भारत को आतंकवाद से प्रभावित देश करार दिया।

इतना ही नहीं, ट्रंप ने एक बार भी अपने भाषण में नवाज शरीफ या पाकिस्तान का जिक्र तक नहीं किया। शरीफ के सामने ही उन्होंने भारत को आतंकवाद से पीड़ित मुल्क बताया। इस बैठक में ट्रंप ने मुस्लिम देशों के नेताओं से अपील की कि वे मिलकर आतंकवाद का मुकाबला करें।

द नेशन के लेख में जिक्र है कि किस तरह ट्रंप ने आतंकवाद के पीड़ित के तौर पर भारत, रूस, चीन और ऑस्ट्रेलिया का नाम तो लिया, लेकिन 70 हजार आम लोगों को गंवाने वाले पाकिस्तान का एक बार भी जिक्र नहीं लिया।

सऊदी अरब की विदेश यात्रा पर गए अमरीकी राष्ट्रपति ने रविवार को रियाद में 50 इस्लामिक देशों के नेताओं को संबोधित किया। डोनल्ड ट्रंप ने अपने संबोधन में मुस्लिम देशों के नेताओं से आतंकवाद खत्म करने की अपील की। उन्होंने कहा कि अपनी पवित्र धरती पर आतंकवाद को न पनपने दें। सऊदी दौरे पर डोनाल्ड ट्रंप के सुर भी बदलते नजर आए। आतंकवाद को लेकर ट्रंप अक्सर 'रैडिकल इस्लामिक आंतकवाद' शब्द का इस्तेमाल करते रहे हैं। ट्रंप ने कहा कि आतंकवाद को लेकर पश्चिम और इस्लाम के बीच लड़ाई नहीं है, बल्कि यह अच्छाई और बुराई के बीच की लड़ाई है।

Tags:    
Share it
Top