Home > भारतीय मूल के इस लड़के ने मेन्सा आइक्यू टेस्ट किया पास, आइंस्टीन और हॉकिंग को छोड़ा पीछे

भारतीय मूल के इस लड़के ने मेन्सा आइक्यू टेस्ट किया पास, आइंस्टीन और हॉकिंग को छोड़ा पीछे

11 साल की उम्र में मेनसा के आइक्यू टेस्ट पर 162 अंक हासिल करके वह देश के सबसे तेज मस्तिष्क वाले विद्याथियों में से एक बन गया है।

 Special Coverage News |  2017-06-30 15:29:01.0  |  New Delhi

भारतीय मूल के इस लड़के ने मेन्सा आइक्यू टेस्ट किया पास, आइंस्टीन और हॉकिंग को छोड़ा पीछे

लंदन : ब्रिटेन में रहने वाले भारतीय मूल के अर्णव शर्मा का आइक्यू अल्बर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से भी ज्यादा है। एक 11 साल की उम्र में मेनसा के आइक्यू टेस्ट पर 162 अंक हासिल करके वह देश के सबसे तेज मस्तिष्क वाले विद्याथियों में से एक बन गया है। उसने महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से 2 अंक अधिक प्राप्त किए हैं।

दक्षिण इंग्लैंड में रीडिंग टाउन निवासी अर्णव ने बिना किसी तैयारी के कुछ सप्ताह पहले बेहद मुश्किल मेन्सा आइक्यू टेस्ट पास किया। उन्होंने इससे पहले कभी यह टेस्ट नहीं दिया था।
"द इंडिपेंडेंट" अखबार के मुताबिक, इस टेस्ट में 140 का स्कोर हासिल करने वाले को जीनियस माना जाता है। अर्णव ने 162 अंक हासिल करके ब्रिटेन में अव्वल स्थान हासिल किया।
उन्होंने कहा कि मेन्सा टेस्ट मुश्किल होता है। कई लोग इसे पास नहीं कर पाते। मुझे तो इसे पास करने की उम्मीद नहीं थी। मैंने यह टेस्ट दिया और इसमें करीब ढाई घंटे लगे। उन्होंने कहा कि मैंने टेस्ट के लिए कोई तैयारी नहीं की थी। जब मैंने अपने परिवार को परिणाम के बारे में बताया, तो वे बहुत खुश हुए। अर्णव को बैडमिंटन, पियानो और तैराकी का भी शौक है।

Tags:    
Share it
Top