Top
Begin typing your search...

ये घटना राहुल के दौरे के बाद होती तो मच जाता हंगामा!

Imagine the twitter outrage if this had happened for Rahul Gandhi to visit instead of for the UP CM

ये घटना राहुल के दौरे के बाद होती तो मच जाता हंगामा!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ शुक्रवार (12 मई) को शहीद प्रेम सागर के घर पहुंचे तो अधिकारियों ने रातों रात सारा इंतजाम कर दिया। सड़कें बन गईं, शहीद के घर एससी लग गया, नये पर्दे, सोफा और कार्पेट बिछा दिया गया। लेकिन सीएम के जाते ही अधिकारी सारा इंतजाम उठाकर ले चले गये। इस खबर के मीडिया में आते ही लोगों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।



जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने कहा है कि अगर यही वाकया राहुल गांधी के दौरे के बाद हुआ होता तो सोशल मीडिया पर तूफान मच जाता। उमर अब्दुल्लाह ने ट्ववीट किया, 'कल्पना कीजिए, ट्वीटर पर लोगों का रिएक्शन क्या होता यदि ये घटना यूपी के सीएम आदित्य नाथ के दौरे के बजाए राहुल गांधी के दौरे के बाद हुई होती, पता नहीं तब लोग क्या क्या कहते।'जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम के इस ट्वीट पर लोगों ने ढेर सारी प्रतिक्रिया दी है।



असीम रायजादा नाम के एक यूजर ने लिखा है, मुझे उम्मीद है कि सीएम योगी इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, वे राहुल गांधी जैसे नहीं है। मोहित नाम के एक यूजर ने उमर अब्दुल्लाह पर ही तंज किया है और लिखा है कि राजनीति में परिवारवाद के एक समर्थक ने दूसरे का समर्थन किया है। एक यूजर ने लिखा है कि लगता है कि आपके और कांग्रेस के बीच में गठबंधन हो गया है।



आलोक कुमार नाम के एक यूजर ने सीएम योगी आदित्य नाथ का जिक्र करते हुए लिखा है कि जिस शख्स ने अपने आवास के सारे एसी हटा दिये, एक कमरे को छोड़कर सारे कमरों में ताला लगवा दिया, उसके बारे में आप ऐसा कैसे लिख सकते हैं।'बता दें कि पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम की कायरता पूर्ण कार्रवाई में हेड कांस्टेबल प्रेम सागर और 22 सिख इन्फैंट्री के नायब सूबेदार परमजीत सिंह शहीद हो गए थे।



एक मई 2017 को पाकिस्तान ने इन दोनों जवानों पर हमला कर इनकी बर्बरता से हत्या कर दी थी। इसके बाद बॉर्डर एक्शन टीम ने इनके शवों के साथ अमानवीय हरकत भी की थी। जब शहीद प्रेम सागर का शव यूपी का देवरिया पहुंचा था तो शहीद के परिजनों ने इनका अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था। और सीएम को बुलाने की मांग की थी। सीएम ने उसी दिन शहीद के घर आने का आश्वासन दिया था।

शिव कुमार मिश्र
Next Story
Share it