Home > Archived > LIVE : हिंसा कर रहे डेरा के 1000 समर्थक हिरासत में, अब तक 31 की मौत, 200 घायल

LIVE : हिंसा कर रहे डेरा के 1000 समर्थक हिरासत में, अब तक 31 की मौत, 200 घायल

हिंसा कर रहे डेरा के 1000 समर्थकों को हिरासत में लिया गया है, यूपी के गाजियाबाद, हापुड़ नोएडा में धारा 144 लागू

 Arun Mishra |  25 Aug 2017 2:00 PM GMT

LIVE : हिंसा कर रहे डेरा के 1000 समर्थक हिरासत में, अब तक 31 की मौत, 200 घायल

नई दिल्ली : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत गुरमीत राम रहीम सिंह यौन शोषण मामले में पंचकूला सीबीआई कोर्ट ने अपन फैसला सुना दिया है। पंचकूला सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम को दोषी करार दे दिया गया है।15 साल पुराने यौन शोषण के केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के खिलाफ आज सीबीआई की विशेष अदालत ने फैसला सुनाया है।


दोषी करार दिए जाने के बाद गुरमीत राम रहीम सिंह को हिरासत में लिया गया है। इस पूरे मामले में सजा का ऐलान 28 अगस्त सोमवार को किया जायेगा। सूत्रों के मुताबिक, राम रहीम को अम्बाला जेल में रखा जा सकता है।


पुलिस हिरासत में राम रहीम को सीधे कोर्ट से जेल ले जाया जा रहा है। राम रहीम को दोषी करार देते ही उनके समर्थक बेकाबू हो गए हैं। तोड़फोड़ और आगजनी कर रहे हैं. डेरा समर्थकों का आक्रोश देखते हुए पुलिस ने उन पर आंसू गैस के गोले दागे हैं। कुछ जगहों पर डेरा समर्थकों ने पुलिस के जवानों को खदेड़ा भी है.। बेकाबू भीड़ ने पंजाब में भी दो रेलवे स्टेशनों में आगजनी की वारदात को अंजाम दिया। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।


LIVE UPDATE -

- हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 31 हुई.

- यूपी के गाजियाबाद, हापुड़ और फिरोजाबाद में भी धारा 144 लगाया गया.

- दिल्ली से रोहतक जानी वाली तमाम ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है.

- कोर्ट के फैसले के बाद हिंसा बेहद निंदनीय : राष्ट्रपति

- हरियाणा में हुई हिंसा से केंद्र सरकार नाखुश, खट्टर सरकार स्थिति संभालने में रही नाकाम, केंद्र द्वारा भेजे गई जवानों का भी सही से नहीं हुआ इस्तेमाल. सीएम मनोहर लाल खट्टर ने लोगों से की शांति की अपील.

- हरियाणा के डीजीपी मोहम्मद अकील ने कहा कि हिंसा कर रहे डेरा के 1000 समर्थकों को हिरासत में लिया गया है.

- गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक 200 से ज्यादा कंपनियां अब तक पंजाब और हरियाणा में भेजा जा चुका है. राजनाथ ने राजस्थान के सीएम से की बात.

- डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रोहतक ले जाया गया, सुनरिया के पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज में रखा गया है.

- डेरा समर्थकों द्वारा हिंसा को देखते हुए ग्रेटर नोएडा और नोएडा में धारा 144 लागू, सभी अधिकारियों को हिंसा रोकने के सख्त निर्देश.

- दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन में खड़ी रीवा एक्सप्रेस के दो खाली डिब्बों में डेरा समर्थकों ने लगाई आग.



- दिल्ली-एनसीआर तक पहुंची डेरा की आग, 7 जगहों पर हिंसा, सीएम अरविंद केजरीवाल ने शांति की अपील.



- गाजियाबाद के लोनी में डेरा समर्थकों ने बस में लगाई आग, मौके पर दिल्ली पुलिस और दमकल.

- हरियाणा में 224 और पंजाब में 64 जगहों पर हिंसा के बीच 25 लोगों की मौत और 200 के घायल होने की सूचना.




कोर्ट के फैसले से नाराज भीड़ का गुस्सा मीडिया की गाड़ियों पर फूटा। हिंसा में सरकारी गाड़ियों को निशाना बनाया गया। संगरूर के पावर हाउस में डेरा समर्थकों ने आग है। पंचकूला में भीड़ ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने गुरमीत राम रहीम को अंबाला सेंट्रल जेल ले जाने के लिए हेलीकॉप्टर मंगवाया है।


इससे पहले, डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम सिरसा से पंचकूला कोर्ट के लिए 400 गाड़ियों के काफिले के साथकोर्ट आये थे। फैसला आने से पहले हरियाणा-पंजाब में डेरा सच्चा सौदा के लाखों समर्थक पंचकूला में डेरा डंडा डाल दिए हैं। बिगड़ते हालात को देखते हुए सेना ने मोर्चा संभाल लिया है और 72 घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। इधर बाबा ने समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील भी की है।हरियाणा के सिरसा में गुरुवार रात से हालात बिगड़ने की स्थिति को देखते हुए कर्फ्यू लगा दिया गया है। पंचकूला में हालात को देखते हुए रोडवेज ने कई रूट्स की बसें बंद कर दीं हैं रेलवे ने भी हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़ और राजस्थान जाने वाली करीब 72 ट्रेनों को रद्द कर दिया है।


इस मामले में डेरा समर्थकों की धमकी के बाद हाईकोर्ट ने एक पिटीशन पर सुनवाई करते हुए केंद्र और राज्य सरकार को लताड़ लगाई। इस दौरान कोर्ट ने राम रहीम के वकील से कहा, 'डेरा समर्थकों को पंचकूला से वापसी के लिए कहा जाए।' पुलिस और सिक्योरिटी फोर्स ने डेरा समर्थकों को खदेड़ने की तैयारी शुरू कर दी है। डेरा समर्थकों को हर हाल में पंचकूला छोड़ने के लिए कहा जा रहा है।

क्या है पूरा मामला, यहां समझें -
अप्रैल 2002- राम रहीम की अनुयायी एक साध्वी ने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को एक शिकायत भेजी थी। साध्वी ने शिकायत में राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप लगाया था।
मई 2002- शिकायती पत्र को तस्दीक करने की जांच का जिम्मा सिरसा के सेशन जज को सौंपा गया।
दिसंबर 2002- शिकायत सही पाए जाने के बाद राम रहीम के खिलाफ धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज किया गया था।
दिसंबर 2003- इस केस की जांच सीबीआई को सौंपी गई। जांच अधिकारी सतीश डागर ने केस की जांच शुरू की और साल 2005-2006 में उस साध्वी को ढूंढ निकाला, जिसका यौन शोषण हुआ था।
जुलाई 2007- सीबीआई ने केस की जांच पूरी कर अंबाला सीबीआई कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। अंबाला से केस की सुनवाई पंचकूला शिफ्ट कर दी गई. चार्जशीट के मुताबिक, डेरे में 1999 और 2001 में कुछ और साध्वियों का भी यौन शोषण हुआ, लेकिन वे मिल नहीं सकीं।
अगस्त 2008- केस का ट्रायल शुरू हुआ और डेरा प्रमुख राम रहीम के खिलाफ आरोप तय किए गए।
साल 2011 से 2016- केस का ट्रायल चला। डेरा प्रमुख राम रहीम की ओर से वकील लगातार जिरह करते नजर आए।
जुलाई 2016- केस की सुनवाई के दौरान 52 गवाह पेश किए गए, इनमें 15 प्रॉसिक्यूशन और 37 डिफेंस के थे।
जून 2017- कोर्ट ने डेरा प्रमुख के विदेश जाने पर रोक लगा दी।
25 जुलाई 2017- सीबीआई कोर्ट ने इस मामले में हर रोज सुनवाई करने के निर्देश दिए ताकि जल्द फैसला सुनाया जा सके।
17 अगस्त 2017- दोनों पक्षों की ओर से चल रही जिरह खत्म हुई और फैसले के लिए 25 अगस्त की तारीख तय की गई।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top