Top
Begin typing your search...

थाने में दरोगा को पीटने वाले BJP नेता पर महिला से छेड़छाड़ का आरोप, पुलिस बनी मूकदर्शक!

थाने में दरोगा को पीटने वाले BJP नेता पर महिला से छेड़छाड़ का आरोप, पुलिस बनी मूकदर्शक!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बीते दिनों नगर अध्यक्ष SDM से भी बदसुलूकी कर चुके हैं, दरोगा को कोतवाली परिसर में पीट चुके हैं..?

मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा में एक बार फिर भाजपा नगर अध्यक्ष शिवेंद्र गुप्ता चर्चा का विषय बने हुए हैं। पर इस बार किसी सरकारी अधिकारी से नही भिड़े हैं बल्कि, भाजपा नगर अध्यक्ष पर इस बार एक महिला ने मार-पीट व छेड़ छाड़ का आरोप लगाया है।

महिला का कहना है हमारा विवाद नगर अध्यक्ष से एक बन्टीलेटर को लेकर चल रहा है। पीड़ित महिला ने पुलिस को तहरीर दे कर बन्टी लेटर हटवाने की मांग की जिस पर भाजपा नगर अध्यक्ष शिवेंद्र गुप्ता अपना आपा खो बैठे और पीड़ित महिला के घर जा घुसे। पीड़ित महिला घर में अकेली थी बच्चे पढ़ने गए थे और पति काम पर गया था। पीड़ित महिला ने कहा कि घर में कोई नही है, अभी मत आओ रात को आकर बात करना पर नगर अध्यक्ष का पारा गरम था। नगर अध्यक्ष ने महिला से मारपीट व छेड़ छाड़ की।

पीड़ित महिला अनुसार, पड़ोसी मोके पर आए और नगर अध्यक्ष को किसी तरह वहां से भेज दिया। पीड़ित महिला ने 5 दिन पहले पुलिस को अपने साथ हुई मारपीट, छेड़-छाड़ की तहरीर दी। पर पुलिस मौके पर जांच करने भी नहीं पहुंची। नगर अध्यक्ष पर कार्यवाही करने से कतरा रही है। इससे पहले भी भाजपा नगर अध्यक्ष छेड़ छाड़ के मामले में जेल जा चुके हैं पर तब सपा सरकार थी और अब भाजपा सरकार है, जो नगर अध्यक्ष के विरुद्ध पुलिस कार्यवाही से बचती नजर आ रही है।

आपको बतादें बीते दिनों भी नगर अध्यक्ष एसडीएम से भी बदसुलूकी कर चुके हैं। एक दरोगा को कोतवाली परिसर में पीट चुके हैं। अब एक पीड़ित महिला ने नगर अध्यक्ष पर गंभीर आरोप लगाए हैं। देखने की बात तो ये है जहां एक तरफ यूपी के सीएम योगी जी का कहना है भाजपा का कोई भी कार्यकर्ता कोई गलत काम नही करेगा पर भाजपा कार्यकर्ता अपनी मनमानी कर रहे हैं। क्या ऐसे भाजपा कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज होने चाहिए या पार्टी से निष्कासित भी कर देना चाहिए। फिलहाल मुरादाबाद पुलिस से जब मीडिया ने इस विषय में बात की तो वो कैमरे से बचते नज़र आए।
रिपोर्ट : सागर रस्तोगी
Next Story
Share it