Top
Begin typing your search...

Exclusive: योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा पर बक्फ बोर्ड की करोड़ों की जमीन बेचने का आरोप?

Mohsin Raza accused of selling land of Bakf Board

Exclusive: योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा पर बक्फ बोर्ड की करोड़ों की जमीन बेचने का आरोप?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
लखनऊ : योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा पर वक्फ बोर्ड की जमीने बेचने के आरोप लगा हैं। ये जमीनें उन्नाव के सफीपुर के मुख्य बाजार में हैं। गौर करने वाल बात यह है कि मोहसिन रजा सफीपुर के ही रहने वाले हैं।

रजा पर आरोप है कि 2010 में पावर ऑफ अटॉर्नी अपनी मां जाहिदा बेगम के नाम करके वक्फ की लगभग 505 गज जमीनें तीन बार में बेंची जहां अब दुकाने हैं। सफीपुर निवासी मसरूर हसन द्वारा बक्फ बोर्ड में शिकायत करने के बाद यह पूरा मामला सामने आया है।

बता दे, कि इन जमीनों की कीमत लगभग दो करोड़ बताई गई है। रिपोर्ट के अनुसार 1937 में अलिया बेगम ने यह जमीने वक्फ बोर्ड को दान कर दी थीं। तब से मोहसिन रजा का परिवार इस जमीनों की देखरेख कर रहा था। जाँच में उनको जमीन बेचने जा दोषी पाया गया है।

इनको बोर्ड के समक्ष अपना पक्ष रखने के लिए 13.01.16 नोटिस दिया गया था। छह हफ्ते में जवाब देना था पर ना कोई आया और ना ही इनकी तरफ से कोई जवाब भेजा गया। इसके बाद वक्फ ने 13/04/17 धारा 52(1)(2)(3) के अंतर्गत उन्नाव कलेक्टर को requisition भेजा कि ये पूरी बेंची गई संपत्ति का कब्जा वक्फ को दिलाएं और 52(क) के अंतर्गत समस्त दोषी व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराएं।

वही अपने बचाव में मोहसिन रजा ने कुछ दस्तावेज दिए हैं। ये दस्तावेजवही हैं जो मोहसिन के मामा ने वक्फ बोर्ड के नोटिस के जवाब में भेजे थे, जिसमें उन्होंने कहा था कि जो जमीनें बेंची गईं हैं वो आबादी संख्या 2424 हैं जो कि वक्फ नहीं हैं बल्कि जो 2424 वक्फ है वहां आज भी मकान है जो बेचा नहीं गया है।

आरटीआई के जरिए जिले के नगर पालिका से प्राप्त सूचना के अनुसार मकान सड़क वाला नंबर 2424 नगर पंचायत सफीपुर के अंतर्गत स्थित नहीं है और न ही के होने का कोई रिकॉर्ड मौजूद है। बल्कि सरकारी दस्तावेजों में आबादी संख्या 2424 वक्फ है।
Kamlesh Kapar
Next Story
Share it