Top
Begin typing your search...

ओडिशा: राउरकेला स्टील प्लांट में गैस रिसाव, अब तक 4 लोगों की मौत, कइयों की तबीयत बिगड़ी

बता दें कि राउरकेला स्टील प्लांट भारत में सार्वजनिक क्षेत्र का पहला एकीकृत इस्पात कारखाना है.

ओडिशा: राउरकेला स्टील प्लांट में गैस रिसाव, अब तक 4 लोगों की मौत, कइयों की तबीयत बिगड़ी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भुवनेश्वर : ओडिशा के राउरकेला स्टील प्लांट (Rourkela Steel Plant) में गैस लीक (Gas Leak) का मामला सामने आया है. हादसे में 4 कर्मचारियों की मौत की खबर है, जबकि कई लोगों की तबीयत बिगड़ी है. सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इनमें से 5 की हालत गंभीर बताई जा रही है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, गैस का रिसाव राउरकेला स्टील प्लांट के कोल केमिकल डिपार्टमेंट में बुधवार सुबह करीब 9:45 बजे हुआ. प्लांट का काम तब शुरू ही हुआ था.

कोल केमिकल डिपार्टमेंट में कुछ कर्मचारी काम कर रहे थे, तभी गैस निकलने लगी. इससे कर्मचारियों को सांस लेने में मुश्किल आने लगी और कुछ बेहोश हो गए. जिसके बाद आनन-फानन में सभी को अस्पताल पहुंचाया गया. अभी तक 4 कर्मचारियों की मौत की पुष्टि हुई है. गैस रिसाव के कारणों का पता लगाया जा रहा है.

बता दें कि राउरकेला स्टील प्लांट भारत में सार्वजनिक क्षेत्र का पहला एकीकृत इस्पात कारखाना है. 10 लाख टन स्थापित क्षमता का यह कारखाना जर्मनी के सहयोग से स्थापित किया गया था. बाद में इसकी क्षमता बढ़ाकर 19 लाख टन कर दी गई.

1990 के वर्षों में इस प्लांट का आधुनिकीकरण किया गया और आधुनिक सुविधाओं के साथ इसमें कई नई यूनिटें जोड़ी गईं. अधिकतर पुरानी यूनिटों का भी नवीकरण किया गया. इसमें कारखाने के उत्पादों की क्वालिटी में सुधार, उत्पादन लागत में कमी, पर्यावरण प्रदूषण रहित बनाने में मदद मिली है.

आरएसपी भारत में इस्पात निर्माण के लिए एलडी टेक्नोलॉजी का प्रयोग करने वाला पहला कारखाना था. यह सेल का ऐसा पहला और एकमात्र इस्पात कारखाना है जहां शत-प्रतिशत स्लैब अधिक गुणवत्ता और कम लागत वाले कंटीनुअस कास्टिंग मार्ग से तैयार किए जाते हैं.

आरएसपी में इस समय 20 लाख टन तप्त धातु, 19 लाख टन कच्चा इस्पात और 16 लाख 70 हजार टन विक्रेय इस्पात तैयार करने की क्षमता है. यह बिजली क्षेत्र के लिए सिलिकन इस्पात, तेल और गैस क्षेत्र के लिए उच्च क्वालिटी के पाइप, पैकेजिंग उद्योग के लिए टीन की प्लेटें तैयार करने वाला सेल का एकमात्र इस्पात कारखाना है. (PTI इनपुट के साथ)

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it