Top
Begin typing your search...

महाराष्ट्रः सूखे का जायजा लेने निकले शिक्षा मंत्री का विरोध, देखें विडिओ

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
4_1457134481_1457151472
पुणे
महाराष्ट्र के मराठवाड़ा में 100 साल के सबसे भयंकर सूखे का जायजा लेने निकले मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की कैबिनेट के मंत्रियों का विरोध शुरू हो गया है। शुक्रवार को शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े उस्मानाबाद तहसील के येडशी का दौरा कर रहे थे। तभी उन पर दूध की थैलियां फेंक दी गईं। इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के लोगों की जमकर पिटाई कर दी। मंत्री ने कहा कि मुझे टारगेट किया जा रहा है।



आपको बता दें कि सीएम फडणवीस ने मंत्रियों से तीन जिलों की 29 तहसीलों का दौरा करने को कहा है। तावड़े पर दूध की थैलियां फेंके जाने के बाद किसान संगठन के कार्यकर्ताओं की पिटाई करने वालों में मंत्री के सेक्रेटरी भी शामिल थे। घटना के बाद तावड़े की सुरक्षा बढ़ा दी गई। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भी काले झंडे दिखाकर तावड़े का विरोध किया। मन्त्री तावड़े ने कहा, "राज्य सरकार अच्छा काम कर रही है, लेकिन मराठा होने के नाते मुझे बार-बार टारगेट किया जाता है।"
सीएम समेत 28 मंत्री मराठवाड़ा के दौरे पर
महाराष्ट्र के मराठवाड़ा में जनवरी में किसानों के सुसाइड करने के 244 मामले सामने आए। इसके बाद सीएम ने फैसला किया कि लातूर, बीड और उस्मानाबाद जिलों की 29 तहसीलों में सूखे के हालात का जायजा लिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने मराठवाड़ा में बिजली के लिए 560 करोड़ रुपए देने की घोषणा की है। कोंकण से चारा लाकर मराठवाड़ा में चारा छावनी शुरू करने का फैसला किया गया है।
Special News Coverage
Next Story
Share it