Top
Home > Archived > पीएम मोदी का एक और सराहनीय कदम, जानिये क्या है?

पीएम मोदी का एक और सराहनीय कदम, जानिये क्या है?

 Special News Coverage |  22 Dec 2015 11:00 AM GMT


PM Modi
नई दिल्लीः प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से बात करने के लिए रेडियो का सहारा लेते हुए अपने मन की बात करते हैं। लेकिन अब वो एक और जरिए से लोगों के संपर्क में आने वाले हैं वो है फोन और एसएमएस। खासकर पुलिस से सम्पर्क करने के लिए पीएम मोदी की एक नई पहल।

18 लाख पुलिसवालों को भी अब संदेश देना चाहते हैं
पीएम मोदी देश के करीब 18 लाख पुलिसवालों को भी अब संदेश देना चाहते हैं। उनके साथ समपर्क बनाकर देश की सुरक्षा व्यवस्था से सीधे जुड़ना चाहते है। इसके लिए वो सीधे फोन पर बात या एसएमएस का सहारा ले सकते हैं। हर समय कुछ न कुछ अलग और लीक से हटकर करने वाले पीएम ने देश के सभी पुलिस थानों का नंबर मांगा है। देश भर के पुलिस थानों का नंबर मंगाने के पीछे पीएम मोदी की एक दिलचस्प इच्छा है। जिसका जिक्र उन्होंने कच्छ के रण में डीजीपी स्तर की बैठक में किया।


गणतंत्र दिवस पर एसएमएस भेज कर बधाई देंगे
पीएम मोदी देश भर के सभी पुलिसवालों से जुड़ना चाहते हैं और उन्हें संदेश देना चाहते हैं। पीएम मोदी सभी राज्यों की पुलिस फोर्स में डीजीपी से लेकर सिपाही तक को गणतंत्र दिवस पर एसएमएस भेज कर बधाई देंगे। अच्छा काम करने वाले पुलिस थाने में वो सीधे फोन करके खुद उस थाने के पुलिसकर्मियों से बात कर बधाई देना चाहते हैं।

मोदी हमेशा नई पहल में यकीन रखते हैं
पीएम मोदी हमेशा नई पहल में यकीन रखते हैं। और उनका ये काम भी ऐसा ह॥ जो कि शायद अब तक किसी ने नहीं किया। ये शायद पहली बार होगा कि प्रधानमंत्री देश भर की पुलिस से एक साथ सीधा संपर्क करेंगे। पीएम मोदी पुलिसकर्मियों से संपर्क के विवरण को सूचीबद्ध चाहते हैं और उन्होंने राज्यों के पुलिस महानिदेशकों को 26 जनवरी से पहले ये लिस्ट तैयार कर देने को कहा है जिससे कि गणतंत्र दिवस के मौके पर संदेश भेज सकें।

पुलिस भी योग के जरिए चुस्त-दुरुस्त रहे
पीएम मोदी की योग में भी खूब दिलचस्पी है और वो चाहते हैं कि देश की पुलिस भी योग के जरिए चुस्त-दुरुस्त रहे। एक इन्सान के दिल-दिमाग और शरीर पर योग के अच्छे असर को वो बखूबी जानते हैं और उन्होंने पुलिसवालों को सुझाव दिया है कि उनके दिन की शुरूआत भी योग से होनी चाहिए। उनके सुझाव में ये बात भी शामिल है कि जरूरी हो तो थानों में योग शिक्षक को भी रखा जाए।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it