Top
Home > राजनीति > सोनिया गांधी से मिलीं AAP की बागी विधायक अलका लांबा, मिलने के बाद कही ये बातें

सोनिया गांधी से मिलीं AAP की बागी विधायक अलका लांबा, मिलने के बाद कही ये बातें

अलका लांबा ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत कांग्रेस से ही की थी

 Sujeet Kumar Gupta |  3 Sep 2019 10:35 AM GMT  |  नई दिल्ली

सोनिया गांधी से मिलीं AAP की बागी विधायक अलका लांबा, मिलने के बाद कही ये बातें
x

आम आदमी पार्टी छोड़ने का एलान कर चुकीं बागी विधायक अलका लांबा आज कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से 10 जनपथ पर मिलीं। इसी के साथ ही उनके कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई हैं।

अलका लांबा ने सोनिया गांधी से मुलाकात की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करते हुए बताया कि उनकी सोनिया गांधी से किस विषय पर बातचीत हुई। लांबा ने ट्वीट किया- 'श्रीमती सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष ही नहीं यूपीए की चेयरपर्सन भी हैं और सेकुलर विचारधारा की एक बहुत बड़ी नेता भी। देश के मौजूदा हालात पर उनसे लंबे समय से चर्चा Due थी।आज मौक़ा मिला तो हर मुद्दे पर खुल कर बात हुई। राजनीति में ये विमर्श का दौर चलता रहता है और चलते रहना चाहिए।'

बीते दिनों चांदनी चौक विधानसभा सीट से विधायक अलका लांबा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ लगातार ट्वीट करके बगावत के संकेत देती रही हैं। अलका लांबा ने रविवार को आम आदमी पार्टी से इस्तीफा देने की बात कही थी।उन्होंने ट्वीट कर पार्टी से इस्तीफा देने की बात कही। अपने ट्वीट में अलका लांबा ने लिखा, "आम आदमी पार्टी में सम्मान से समझौता करके रहने से बेहतर है कि मैं पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दूं, जिसकी घोषणा आज की भी गई है और अगला चुनाव चांदनी चौक विधानसभा क्षेत्र से आजाद उम्मीदवार के तौर पर लडूं."

पार्टी से इस्तीफा देने की बात कहने के अलावा अलका लांबा ने दिल्ली में आगामी विधानसभा चुनाव में बतौर आजाद उम्मीदवार चुनाव लड़ने की भी बात कह दी. साथ ही अलका लांबा ने आम आदमी पार्टी को चुनौती दी कि अगर पार्टी में दम है तो वह उन्हें बाहर करे। अप्रैल में अल्का लांबा ने जामा मस्जिद के बाहर के लोगों से पूछा था कि क्या उन्हें आम आदमी पार्टी से इस्तीफा दे देना चाहिए, क्योंकि पार्टी के लोग उनके इस्तीफे की बार-बार मांग कर रहे हैं.

लांबा ने कहा था, 'मैं बीजेपी के खिलाफ लड़ रही हूं लेकिन कुछ लोग मेरे खिलाफ लड़ रहे हैं. मेरी पार्टी के लोग मुझसे बार-बार इस्तीफा देने के लिए कह रहे हैं. मैं जानना चाहती हूं कि मेरी गलती क्या है. मुझे इस्तीफा क्यों देना चाहिए? मैं चाहती हूं कि मेरे निर्वाचन क्षेत्र चांदनी चौक के लोग तय करें कि मुझे 'आप' से इस्तीफा देना चाहिए या नहीं.' उन्होंने कहा था कि बीजेपी को हराने का एक ही रास्ता है कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस हाथ मिला लें.' अब सोनिया गांधी से मुलाकात और दिल्ली विधानसभा चुनाव के नजदीक होने के चलते कयास लगाए जा रहे हैं कि अलका लांबा कांग्रेस ज्वॉइन कर सकती है।

बता दें कि अलका लांबा ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत कांग्रेस से ही की थी। वह जब कांग्रेस में थीं तो कई मौकों पर राहुल गांधी के लिए आवाज उठाते हुए देखा गया था। बाद में उन्होंने आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर ली और चांदनी चौक से विधायक हैं। वह अक्सर ही अपने सोशल मीडिया पर अकाउंट के माध्यम से मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनकी सरकार की आलोचना करती रही हैं।

Tags:    
Next Story
Share it