Top
Begin typing your search...

PM नरेंद्र मोदी की मीटिंग के लिए नहीं मिला न्योता, असदुद्दीन ओवैसी बोले- यह तौहीन है

कोरोना वायरस के कारण देशव्यापी लॉकडाउन (बंद) के बीच विपक्षी दलों से संवाद करने के तहत, मोदी आठ अप्रैल को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए विभिन्न दलों के सदन के नेताओं के साथ बातचीत करेंगे.

PM नरेंद्र मोदी की मीटिंग के लिए नहीं मिला न्योता, असदुद्दीन ओवैसी बोले- यह तौहीन है
X
Asaduddin Owaisi (File Photo)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (asaduddin owaisi) का कहना है कि कोविड-19 (COVI19) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ प्रस्तावित बातचीत में उनकी पार्टी को शामिल नहीं करना हैदराबाद और औरंगाबाद के लोगों की तौहीन (अपमान) है.

तेलंगाना की हैदराबाद सीट से ओवैसी खुद लोकसभा सदस्य हैं, जबकि महाराष्ट्र की औरंगाबाद लोकसभा सीट से एआईएमआईएम के इम्तियाज़ जलील सांसद हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय को टैग करते हुए एक ट्वीट में आवैसी ने सवाल किया कि क्या हैदराबाद और औरंगाबाद के लोग इसलिए कम दर्जे के इंसान हैं क्योंकि उन्होंने एआईएमआईएम को चुना? कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण देशव्यापी लॉकडाउन (बंद) के बीच विपक्षी दलों से संवाद करने के तहत, मोदी आठ अप्रैल को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए विभिन्न दलों के सदन के नेताओं के साथ बातचीत करेंगे.

बुधवार को पीएम मोदी के साथ होगी बैठक

ससंदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने शनिवार को बताया था कि संसद के दोनों सदनों में जिन पार्टियों की कुल क्षमता पांच से अधिक है, उनके सदन के नेता बुधवार को सुबह 11 बजे प्रधानमंत्री के साथ चर्चा का हिस्सा होंगे. हैदराबाद के सांसद ने प्रधानमंत्री से यह जानने की कोशिश की कि पार्टी के नुमाइंदे आपके ध्यान के योग्य क्यों नहीं हैं.

'औरंगाबाद और हैदराबाद के गौरवशाली लोगों की तौहीन है'

ओवैसी ने ट्वीट किया, 'पीएमओ इंडिया, यह औरंगाबाद और हैदराबाद के गौरवशाली लोगों की तौहीन (अपमान) है। क्या वे इसलिए कम दर्जे के इंसान हैं क्योंकि उन्होंने एआईएमआईएम को चुना? कृपया समझाइए कि वे आपके ध्यान के काबिल क्यों नहीं हैं? सांसदों के रूप में यह हमारा काम है कि हम हमारे लोगों के आर्थिक और मानवीय दुख का आप के सामने प्रतिनिधित्व करें.'

हैदराबाद में कोरोना वायरस के 93 सक्रिय मामले हैं

ओवैसी ने कहा कि वह कोविड-19 (Covid19) के खिलाफ लड़ाई पर सुझाव देना चाहते हैं. एक अन्य ट्वीट में ओवैसी ने कहा कि हैदराबाद और औरंगाबाद के लोगों ने मुझे और इम्तियाज़ जलील को चुना है ताकि हम उनके मुद्दे उठाएंगे. अब, हमें महामहिम के साथ दर्शकों के तौर पर भी महरूम किया जा रहा है. हैदराबाद में कोरोना वायरस के 93 सक्रिय मामले हैं. मैं अपने विचारों को रखना चाहता हूं कि हम इस महामारी से कैसे लड़ सकते हैं और उन क्षेत्रों की पहचान कर सकते हैं जहां हमारी कमी है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it