Home > राजनीति > VIDEO : मोदी के सवाल पर भड़के मणिशंकर अय्यर, पत्रकार को घूंसा दिखाकर कहा- मार दूंगा

VIDEO : मोदी के सवाल पर भड़के मणिशंकर अय्यर, पत्रकार को घूंसा दिखाकर कहा- मार दूंगा

आप लोग मधुमक्खी जैसे हैं, जहां कुछ शहद हो, वहां पहुंच जाते हो। आज मुझको बर्बाद करके कल कहीं किसी और फूल पर पहुंच जाओगे।

 Special Coverage News |  15 May 2019 8:25 AM GMT  |  दिल्ली

VIDEO : मोदी के सवाल पर भड़के मणिशंकर अय्यर, पत्रकार को घूंसा दिखाकर कहा- मार दूंगा

नई दिल्ली : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने मंगलवार को फिर एक बार आपा खो दिया। पत्रकारों ने उनसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर सवाल पूछे थे। इस पर अय्यर नाराज हो गए। उन्होंने पत्रकार को घूंसा दिखाते हुए कहा कि मैं तुम्हें मार दूंगा। अय्यर ने मई 2017 में मोदी को 'नीच व्यक्ति' करार दिया था। 14 मई को अय्यर ने कहा कि मैं अब अपने उस बयान पर कायम हूं। इस पर बहस करने की मेरी कोई इच्छा नहीं है।

पत्रकार के सवाल पर अय्यर ने कहा, ''भारत में एक ही व्यक्ति है, उनके तीखे हमले आपने नहीं देखे, उनसे सवाल कीजिए। वे आपसे बात इसलिए नहीं करते, क्योंकि वे डरपोक हैं।'' इसके बाद अय्यर ने कहा कि अब आप मुझसे कोई सवाल नहीं कर सकते। पत्रकार ने अय्यर को नाराज न होने के लिए कहा। जाते-जाते अय्यर ने पत्रकार को अपशब्द भी कहा।


'आप लोग मधुमक्खी जैसे'

एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए अय्यर ने कहा, ''मैंने आर्टिकल में एक लाइन लिखी थी। मीडिया के चक्कर में नहीं फसूंगा। मैं उल्लू हूं, लेकिन इतना बड़ा उल्लू नहीं हूं। आप लोग मधुमक्खी जैसे हैं, जहां कुछ शहद हो, वहां पहुंच जाते हो। आज मुझको बर्बाद करके कल कहीं किसी और फूल पर पहुंच जाओगे।

अय्यर ने 'राइजिंग कश्मीर' में लिखा था आर्टिकल

अय्यर के मुताबिक, ''23 मई को देश की जनता उन्हें बाहर कर देगी। मोदी भारत में अब तक के सबसे ज्यादा झूठ बोलने वाले प्रधानमंत्री हैं। मुझे याद है कि 7 दिसंबर 2017 को मैंने क्या कहा था। क्या मैं भविष्यवक्ता नहीं था?''

''मैंने हाल ही में सुना कि प्रधानमंत्री (जो दस दिन और इस पद पर रहेंगे) वायुसेना को बादल होने के बावजूद बालाकोट स्ट्राइक का आदेश दिया। एयरफोर्स के अफसरों ने इसे तब तक टालने को कहा था जब तक मौसम ठीक न हो जाए। लेकिन वह (मोदी) अपना 56 इंच का सीना और चौड़ा करना चाहते थे। उन्होंने सोचा कि बादल हमारी वायुसेना के लिए इसलिए ठीक रहेंगे क्योंकि इसके चलते पाक वायुसेना कोई कार्रवाई नहीं कर पाएगी। यह हमारी वायुसेना का अपमान है। उन्हें शायद यह नहीं पता कि रडार कोई टेलिस्कोप नहीं होता जो बादलों के पार न देख पाए। क्या मोदी वायुसेना के सीनियर अफसरों को मूर्ख समझते हैं कि उनके सामने ऐसा अवैज्ञानिक तर्क रखा?''

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top