Top
Home > राजनीति > BJP संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी बोले- राष्ट्र सर्वोच्च है और यह विकास हमारा मंत्र, तो विपक्ष नाम लिये बगैर कंसा करारा तंज

BJP संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी बोले- राष्ट्र सर्वोच्च है और यह विकास हमारा मंत्र, तो विपक्ष नाम लिये बगैर कंसा करारा तंज

पीएम ने कहा, 'आप पर सवा सौ करोड़ का भार है. आप बहुत व्यस्त रहते हैं. लेकिन फिर भी कुछ समय देश के निकालिये​.'

 Sujeet Kumar Gupta |  3 March 2020 5:59 AM GMT  |  नई दिल्ली

BJP संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी बोले- राष्ट्र सर्वोच्च है और यह विकास हमारा मंत्र, तो  विपक्ष नाम लिये बगैर कंसा करारा तंज
x

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी की संसदीय दल की बैठक मंगलवार यानि आज संसद में स्थित पुस्तकालय में हुई इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी की संसदीय दल की बैठक में पार्टी सांसदों को संदेश दिया है कि 'देश हित पार्टी हित से ऊपर है. अपने दुश्मनों को प्यार करिए.' प्रधानमंत्री ने कहा- 'सभी सांसदों को समाज में शांति, सद्भाव और एकता सुनिश्चित करने का काम करना चाहिए.' पीएम ने कहा, 'विकास हमारा मंत्र है; शांति, एकता और सद्भाव विकास के लिए आवश्यक शर्त है.'

बीजेपी के एक सांसद के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनमोहन सिंह पर पलटवार किया. मनमोहन सिंह का नाम लिए बिना पीएम मोदी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री को भारत माता की जय कहने में भी "बू" आती है. आज़ादी के समय इसी कांग्रेस में कुछ लोग वंदे मातरम बोलने के खिलाफ थे. अब इन्हें "भारत माता की जय" बोलने दिक्कत हो रही है. कुछ लोग अपने दल के लिये जी रहे है, हम देश के लिये जीते हैं.' हम लोग सबका विकास सबका साथ पर चलने वाले हैं।

बताया कि सांसदों की क्लास लेते हुए पीएम ने कहा, 'आप पर सवा सौ करोड़ का भार है. आप बहुत व्यस्त रहते हैं. लेकिन फिर भी कुछ समय देश के निकालिये​.'

इससे पहले 4 फरवरी को हुई इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी सांसदों से कहा था कि कुछ लोगों ने बजट पर भ्रम फैलाने की कोशिश की लेकिन जनता भ्रमित नहीं हुई और सबको समझ में आ गया है कि बहुत अच्छा बजट है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यहां तक कि अब आलोचकों ने भी यह स्वीकार किया है कि वर्तमान वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में बजट सर्वश्रेष्ठ है।

संसद में बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत सोमवार को हुई। तब दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने संसद परिसर में विरोध-प्रदर्शन किया। राज्यसभा में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार पर हिंसा के दौरान तीन दिनों तक सोते रहने का आरोप लगाया। आजाद ने कहा कि यदि तीन दिनों तक केंद्र सरकार सोई न रहती तो हिंसा नहीं होती। इसके अलावा संसद परिसर में कांग्रेस नेता राहुल गांधी, अधीर रंजन चौधरी समेत कई कांग्रेसी नेताओं ने दिल्ली हिंसा पर विरोध-प्रदर्शन करते हुए गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग की।

गौरतलब है कि संसद के दूसरे चरण की बैठक 3 अप्रैल तक चलेगी. इस दौरान आम बजट को पारित करने की बाकी प्रक्रियाओं को पूरा किया जाएगा. बजट सत्र की शुरुआत 31 जनवरी को दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण से हुई थी. बजट सत्र का पहला चरण 11 फरवरी को पूरा हो गया था.

Tags:    
Next Story
Share it