Top
Begin typing your search...

ममता की रैली में राफेल की जगह बोफोर्स बोल गए शरद यादव, फिर मांगी माफी

शरद यादव ने घोटाले की बात करते हुए गलती से राफेल की जगह बोफोर्स कह दिया हालांकि उन्होंने बाद में इस पर माफी मांगते हुए कहा कि बोफोर्स नहीं राफेल घोटाले की बात कर रहा था

ममता की रैली में राफेल की जगह बोफोर्स बोल गए शरद यादव, फिर मांगी माफी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता में आज तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की महारैली है। ममता बनर्जी अपनी इस महारैली के जरिए जहां गैरबीजेपी दलों को एक मंच पर लाना चाहती हैं वहीं अपना शक्ति प्रदर्शन भी करना चाहती है। ममता बनर्जी की इस रैली में आज कोलकाता में 20 दलों के नेता बीजेपी के खिलाफ एक मंच पर नजर आएंगे।

शरद यादव ने कहा कि नोटबंदी के कारण देश की अर्थव्यवस्था कई साल पीछे चली गई है। उन्होंने कहा था कि दो करोड़ रोजगार देंगे लेकिन कितनों को मिला। केंद्र की सरकार हर संस्था को बर्बाद कर रही है। भारत की आजादी में जितनी कुर्बानी बंगाल ने दी है देश के किसी राज्य ने नहीं दी है। 2019 में केंद्र की सरकार बंगाल की खाड़ी बहाने का काम करेंगे। देश की आजादी खतरे में है। व्यापार और किसान खतरे में हैं। सभी पार्टी के नेताओं को गोलबंद होना पड़ेगा। जनता भी फूट डालने वाले लोगों को हराने का काम करे यह अपील है। इस दौरान शरद यादव ने घोटाले की बात करते हुए गलती से राफेल की जगह बोफोर्स कह दिया हालांकि उन्होंने बाद में इस पर माफी मांगते हुए कहा कि बोफोर्स नहीं राफेल घोटाले की बात कर रहा था। बाद में ममता ने उनकी बात को दोहराया।

वहीं, बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने कहा कि सवाल एक व्यक्ति को हटाने का नहीं सोच का है। मोदी सरकार ने हर लोकतांत्रिक व्यवस्था को खत्म बर्बाद करने में लगी है। मोदी को मुद्दा न बनाएं, मुद्दों को मुद्दा बनाएं। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई लोकतंत्र बचाने की है। कश्मीर की समस्या का समाधान गोली से नहीं बोली से होगा। मुझे पाकिस्तान का एजेंट भी कहा गया। लेकिन क्या प्यार की बात करना देशद्रोह है। मेरा एक उद्देश्य है, एक लड़ाई बाकी है वो है इस सरकार को सत्ता से बाहर करना। इसके लिए आवश्यक है कि मंच पर उपस्थित नेता तय करें कि भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ हर सीट पर सिर्फ एक उम्मीदवार खड़ा होगा। आने वाले दिनों में हम एकजूट होकर लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। मोदी सरकार ने सबका साथ तो लिया लेकिन विकास के नाम पर सबका विनाश किया।

Special Coverage News
Next Story
Share it