Top
Home > राजनीति > सच क्या: पासवान कहते हैं 2.13 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया, बीजेपी कहती है 8 करोड़

सच क्या: पासवान कहते हैं 2.13 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया, बीजेपी कहती है 8 करोड़

रामविलास और नरेंद्र मोदी के राशन वितरण में अंतर क्यों?

 रवीश कुमार |  2 July 2020 7:36 AM GMT  |  दिल्ली

सच क्या: पासवान कहते हैं 2.13 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया, बीजेपी कहती है 8 करोड़
x

16 मई को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा था कि सभी राज्यों ने जो मोटा-मोटी आंकड़े दिए हैं उसके आधार पर हमें लगता है कि 8 करोड़ प्रवासी मज़दूर हैं जिन्हें मुफ्त में अनाज देने की योजना का लाभ पहुंचेगा। केंद्र सरकार इसका ख़र्च उठाएगा। राज्यों से पैसे नहीं लेगी। इसके लिए सरकार 3500 करोड़ ख़र्च करेगी। अगले दो महीने में। प्रवासी मज़दूर लौट रहे हैं, बहुत कम हैं जो वापस जा रहे हैं, इसलिए हम कह रहे हैं कि अगले दो महीने तक चाहे कार्ड हो या न कार्ड हो, हर प्रवासी मज़दूर को मुफ्त में चावल या गेहूं और एक किलो ग्राम चना दिया जाएगा।

1 जुलाई को 8 करोड़ प्रवासी मज़दूरों के बारे में जब सवाल किया गया तब केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान और उनके बाद उनके सचिव ने ये जवाब दिया।

पासवान- अभी पांच महीने सिर्फ प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को बढ़ाने का फैसला हुआ है। जहां तक बिना राशन कार्ड वाले 8 करोड़ माइग्रेंट वर्कर की बात है, कई राज्य बिना राशन कार्ड वाले प्रवासी मज़दूरों के लिए अनाज नहीं मांग रहे हैं क्योंकि वो वापस जा चुके हैं।आंध्र, तेलंगाना जैसे राज्यों ने हमें बताया है कि उन्हें माइग्रेंट वर्कर के लिए अलग से अनाज की ज़रूरत नहीं है।

खाद्य सचिव सिधाशुं पांडे- बिना राशन कार्ड वाले 8 करोड़ माइग्रेंट वर्कर वाला फिगर एक लिबरल एस्टिमेट था। राज्यों ने 2.13 करोड़ माइग्रेंट वर्कर को ही अनाज दिया है। इसलिए बिना राशन कार्ड वाले माइग्रेंट वर्कर का टारगेट रिवाइज़ हो गया है। 12 राज्यों ने जो लक्ष्य था इस मामले में, इसेस 1 प्रतिशत से भी कम अनाज प्रवासी मज़दूरों में वितरित किया।

इन जवाबों से कई सवाल बनते हैं लेकिन फिलहाल आप इतना ही मान लें कि 8 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को मुफ्त में 5 किलोग्राफ चावल और एक किलोग्राम चना देने का एलान हुआ था। दिया गया 2.13 करोड़ को। अगर कोई सवाल नहीं करता तो सरकार खुद से बताती भी नहीं।

लेकिन एक जुलाई को ही बीजेपी ट्विट करती है। बैनर पोस्टर पर प्रधानमंत्री की तस्वीर लगी है। इस पोस्टर पर लिखा है कि आठ करोड़ प्रवासी श्रमिकों को 8 लाख मीट्रिक टन खाद्धान्न का किया जा रहा है वितरण 1.96 करोड़ प्रवासी परिवारों को 39000 मीट्रिक टन दालों की आपूर्ति की जा रही सुनिश्चित।

प्रवासियों को प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम खाद्यान और प्रति परिवार एक किलो दाल का फ्री में हो रहा है वितरण। मोदी जी वाले पोस्टर में कहा गया है कि 8 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया जा रहा है। लेकिन दाल सिर्फ 1.96 करोड़ प्रवासी परिवारों को दी जा रही है। ये अंतर क्यों हैं ? क्या सब को दाल नहीं मिली?

मोदी जी के मंत्री कहते हैं कि 8 करोड़ प्रवासी मज़दूर अनुमानित संख्या थी। सिर्प 2.8 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया गया। लेकिन मोदी जी अपने पोस्टर में 8 करोड़ की संख्या बताते हैं। सभी को पता है कि इन सब बातों पर किसी की नज़र पड़ेगी नहीं। लेकिन क्या बीजेपी को सही आंकड़े नहीं बताने चाहिए?

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
रवीश कुमार

रवीश कुमार

रविश कुमार :पांच दिसम्बर 1974 को जन्में एक भारतीय टीवी एंकर,लेखक और पत्रकार है.जो भारतीय राजनीति और समाज से संबंधित विषयों को व्याप्ति किया है। उन्होंने एनडीटीवी इंडिया पर वरिष्ठ कार्यकारी संपादक है, हिंदी समाचार चैनल एनडीटीवी समाचार नेटवर्क और होस्ट्स के चैनल के प्रमुख कार्य दिवस सहित कार्यक्रमों की एक संख्या के प्राइम टाइम शो,हम लोग और रविश की रिपोर्ट को देखते है. २०१४ लोकसभा चुनाव के दौरान, उन्होंने राय और उप-शहरी और ग्रामीण जीवन के पहलुओं जो टेलीविजन-आधारित नेटवर्क खबर में ज्यादा ध्यान प्राप्त नहीं करते हैं पर प्रकाश डाला जमीन पर लोगों की जरूरतों के बारे में कई उत्तर भारतीय राज्यों में व्यापक क्षेत्र साक्षात्कार किया था।वह बिहार के पूर्व चंपारन जिले के मोतीहारी में हुआ। वह लोयोला हाई स्कूल, पटना, पर अध्ययन किया और पर बाद में उन्होंने अपने उच्च अध्ययन के लिए करने के लिए दिल्ली ले जाया गया। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक उपाधि प्राप्त की और भारतीय जन संचार संस्थान से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्राप्त किया।


Next Story
Share it